close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस शख्स ने ऑटो ड्राइवर को दिया किराया, लेकिन पहुंच गया सलाखों के पीछे

ऑटो ड्राइवर को 40 रुपए की जगह 60 रुपए ज्यादा भाड़ा देने पर फंस गया ये शख्स.

इस शख्स ने ऑटो ड्राइवर को दिया किराया, लेकिन पहुंच गया सलाखों के पीछे
100 और 200 के नकली नोट छापने वाले तस्कर को नई दिल्ली जिला पुलिस ने धर दबोचा.

दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में 100 और 200 के नकली नोट छापने वाले तस्कर को नई दिल्ली जिला पुलिस ने धर दबोचा. इसकी पहचान जुगेश्वर राम (23) के तौर पर हुई है. इसके कब्जे से 139 नकली नोट बरामद किए गए है, जिनकी कीमत 15,100 रुपये हैं. इन नोटों की क्वालिटी इतनी बढ़िया है कि कोई भी असली और नकली में फर्क ना कर पाए. देश की अर्थव्यस्था को कमजोर करने के इरादे से नकली नोट की सप्लाई हो रही है.

नई दिल्ली डिस्ट्रीक्ट के डीसीपी डॉ. ईश सिंघल ने बताया कि एसएचओ प्रह्लाद सिंह यादव की निगरानी में मिंटो रोड स्थित पिकेट लगाकर पुलिसकर्मियों की टीम वाहनों की चेकिंग कर रही थी. इस दौरान बुधवार रात ऑटो में बैठकर जुगेश्वर मिंटो रोड आया था, लेकिन उसने ऑटो ड्राइवर को 100 रुपए का नकली नोट दे दिया और वहां से निकले लगा. जबकि ऑटो का भाड़ा 40 रुपए हुआ था. 60 रुपए ज्यादा देने पर ऑटो ड्राइवर को शक हुआ और उसने ठीक से नोट को चेक किया तो वह नकली निकला. ये देखकर ड्राइवर शोर मचाते हुए उसके पीछे दौड़ा, जैसे ही आरोपी मिंटो रोड से भागते हुए कनॉट प्लेस आउटर सर्किल पर पहुंचा. वहां पिकेट पर मौजूद पुलिस कर्मियों ने उसे धर दबोचा.

छानबीन में पता चला है कि जुगेश्वर को कंम्प्यूटर की ठीक-ठाक जानकारी है और उसने डिप्लोमा कोर्स भी किया हुआ है. जल्द पैसे कमाने के लालच में उसने खुद ही जाली नोट छापना शुरू कर दिया. छत्तीसगढ़ में कई दिनों तक नकली नोट चलाने के बाद अब इन्हें खपाने के लिए दिल्ली आया था. फिलहाल पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेश कर सात दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है.