close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जींद उपचुनावः जानें तीसरे स्थान पर रहने वाले कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला ने क्या कहा

जींद में इनेलो विधायक डॉ. हरिचंद मिड्ढा के निधन के कारण उपचुनाव हुए हैं. बीजेपी ने हरिचंद मिड्ढा के बेटे को ही टिकट दिया था.

जींद उपचुनावः जानें तीसरे स्थान पर रहने वाले कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला ने क्या कहा
फोटो सौजन्य: ANI

नई दिल्लीः जींद विधानसभा उपचुनाव के नतीजों में कांग्रेस के दिग्गज नेता रणदीप सुरजेवाला तीसरे स्थान पर रहे है. रणदीप सुरजेवाला वर्तमान में हरियाणा की कैथल सीट से विधायक है और कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं. बीजेपी प्रत्याशी डॉ कृष्ण मिड्ढा की जीत के बाद कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है, ' मैं हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर जी और नवनिर्वाचित विधायक डॉ कृष्ण मिड्ढा जी को बधाई देता हूं कि वह जींद के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेंगे. मैं पार्टी द्वारा दी गई जिम्मेदारी को निभाने के लिए यहां आया था, जिसे मैंने पूरी निष्ठा से निभाया. मिड्ढा जी को बधाई.'

इस सीट से बीजेपी ने 12 हजार से ज्यादा वोटों से जीत दर्ज कर ली है. बीजेपी प्रत्याशी डॉ कृष्ण मिड्ढा ने 12935 वोटों से जीत दर्ज की है. कैथल से कांग्रेस के विधायक और पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला तीसरे स्थान पर रहे है. बीजेपी की दूसरे स्थान पर इनेलो से अलग हुए दुष्यंत चौटाला की पार्टी जननायक जनता पार्टी (JPP) के दिग्विजय चौटाल रहे हैं. 

बीजेपी के डॉ कृष्ण मिड्ढा ने जननायक जनता पार्टी के दिग्विजय चौटाला को 12935 वोटों से हराया. बीजेपी प्रत्याशी को कुल 50, 556 वोट मिले . वहीं जेपीपी प्रत्याशी को कुल 37631 वोट प्राप्त हुए. वहीं कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला को 22, 740 वोट मिले.

आखिरी राउंड तक कुल 1 लाख 30 हजार 828 वोटों की गिनती हुई. अंतिम राउंड में कांग्रेस को 1048 वोट मिले. जेपीपी को 2338 वोट मिले, इनेलो को 229, लोकतांत्रिक समाज पार्टी को 140 और बीजेपी को 1700 वोट मिले. 

 

केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने जींद उपचुनाव में बीजेपी की जीत पर नवनिर्वाचित विधायक को बधाई देते हुए इसे समस्त बीजेपी कार्यकर्ताओं और पीएम के प्रयासों की जीत बताया है.

हरियाणा के फऱीदाबाद से सांसद और केंद्रीय मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने भी इस जीत के बाद राज्य बीजेपी कार्यकर्ताओं को शुभकामनाएं दी.

इससे पहले सातवें राउंड की गिनती के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं के हंगामे के चलते मतगणना रोक दी गई थी. जींद में मुख्य मुकाबला इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) से अलग हुई दुष्यंत चौटाला की पार्टी जननायक जनता पार्टी, बीजेपी, कांग्रेस और इनेलो के बीच था. यहां से जननायक जनता पार्टी से दुष्यंत चौटाला के भाई दिग्विजय चौटाला, कांग्रेस से रणदीप सुरजेवाला, बीजेपी से डॉ कृष्ण मिढ्डा व इनेलो उमेद रेडू मैदान में थे. सात राउंड की गिनती पूरी होने के बाद यहां हंगामा हुआ था. जिसके बाद मतगणना को रोकना पड़ा था. और पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया था.

मतगणना में शुरुआत के पांचों राउंड में जननायक जनता पार्टी के दिग्विजय सिंह चौटाला आगे चल रहे थे. बीजेपी दूसरे और कांग्रेस तीसरे स्थान पर चल रही थी. लेकिन छठे और सातवें राउंड की गिनती के बाद बीजेपी प्रत्याशी कृष्ण मिढ्डा ने 10 हजार से ज्यादा वोटों की बढ़त बना ली. जिसके बाद कांग्रेस और अन्य पार्टियों ने काउंटिंग बूथ पर हंगामा कर दिया जिसके बाद काउंटिंग रोक दी गई.

कांग्रेस, जेजेपी और इनेलो ने आरोप लगाया कि टेबल नंबर 4 और टेबल नंबर 5 पर ईवीएम मशीन के नंबर अलग थे. मतगणना केंद्र के बाहर जैसे ही ये सूचना आई बीजेपी विरोधी तमाम पार्टियों ने हंगामा शुरू कर दिया. जिसके चलते मतगणना को रोकना पड़ा. प्रशासन को इलाके को खाली कराने के लिए फोर्स बुलानी पड़ी और पुलिस ने लाठीचार्ज कर हंगामा कर रहे लोगों को खदेड़ा.

हंगामा खत्म होने के बाद हालात के बारे में बताते हुए जींद के एसपी अश्विन शैणवी ने बताया, 'मतगणना स्थल के पास गैर कानूनी तरीके से लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई थी, लोगों से इलाके को खाली करने के लिए कहा गया था, लेकिन ऐसा नहीं होने पर हमें हल्का बल प्रयोग करना पड़ा. अब स्थिति नियंत्रण में है, मतों की गिनती शुरू हो चुकी है. '

जींद के लिए बीते 28 जनवरी को मतदान हुआ था और 75.77 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया.

क्यों हुआ है उपचुनाव
जींद में इनेलो विधायक डॉ. हरिचंद मिड्ढा के निधन के कारण उपचुनाव हुए हैं. इसमें कांग्रेस ने रणदीप सुरजेवाला तो बीजेपी ने दिवंगत विधायक हरिचंद के बेटे कृष्ण मिड्ढा को टिकट दिया है. वहीं इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) की कमान ओमप्रकाश चौटाला ने अभय चौटाला को सौंप दी तो उनके दूसरे बेटे अजय चौटाला ने दूसरी पार्टी (जननायक जनता पार्टी) बना ली और अपने बेटे दिग्विजय चौटाला को मैदान में उतारा था. ​