close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा शिवसेना में शामिल, नालासोपारा सीट से लड़ सकते हैं चुनाव

हालांकि प्रदीप शर्मा पिछले कई सालों से चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे हैं और नालासोपारा विधानसभा सीट से उनकी उम्मीदवारी तय मानी जा रही है. 

एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा शिवसेना में शामिल, नालासोपारा सीट से लड़ सकते हैं चुनाव
अपने करियर में नाम कमाने के साथ-साथ प्रदीप शर्मा कई बार विवादों में भी फंसे.

मुंबई: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा (Pradeep Sharma) शुक्रवार को उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) की मौजूदगी में शिवसेना (Shiv sena) में शामिल हो गए. इस मौके पर प्रदीप शर्मा सपरिवार मातोश्री पहुंचे. सूत्रों के मुताबिक सुपर कॉप प्रदीप शर्मा नालासोपारा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.

हालांकि, प्रदीप शर्मा खुद मुंबई के अंधेरी इलाके में रहते हैं लेकिन इस विधानसभा सीट पर पहले से ही शिवसेना के रमेश लटके मौजूदा विधायक हैं. पार्टी प्रदीप शर्मा के लिए अंधेरी के अलावा कोई दूसरी सीट तलाश रही थी. प्रदीप शर्मा ने हाल ही में वॉलंटरी रिटायरमेंट की अर्जी देते हुए अपनी नौकरी से इस्तीफा दिया था जिसे सरकार ने मंजूर कर उन्हें पदभार से मुक्त कर दिया. इससे पहले,  इंस्पेक्टर प्रदीप शर्मा ठाणे पुलिस की एंटी एक्टोर्शन सेल में तैनात थे.

नालासोपारा सीट पर बहुजन विकास आघाड़ी के बाहुबली नेता हितेंद्र ठाकुर का दबदबा है. इस इलाके में बड़े पैमाने पर हिंदी भाषी वोटर हैं. ऐसे में एक हिंदी भाषी और आपराधियों के खिलाफ लड़ने वाले अधिकारी की छवि रखने वाले प्रदीप शर्मा की उम्मीदवारी से शिवसेना को अपनी जीत निश्चित लग रही है. अगले कुछ ही दिनों में शिवसेना और बीजेपी के बीच गठबंधन और सीटों के बंटवारे का ऐलान हो सकता. उसके बाद ही शिवसेना औपचारिक तौर पर प्रदीप शर्मा की उम्मीदवारी का ऐलान करेगी. हालांकि प्रदीप शर्मा पिछले कई सालों से चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे हैं और नालासोपारा विधानसभा सीट से उनकी उम्मीदवारी तय मानी जा रही है. 

जानिए कौन हैं प्रदीप शर्मा, जिन्होंने फिर से उधेड़ दी हैं IPL में सट्टेबाजी की परतें

90 के दशक में जब मुंबई में गैंगवार चरम पर था तब प्रदीप शर्मा, दया नायक, विजय सालसकर जैसे पुलिस अधिकारियों ने बदमाशों के एनकाउंटर कर अंडरवर्ल्ड का खात्मा करने में अहम भूमिका निभाई थी और खूब सुर्खियां भी बटोरी थीं. चाहे दाऊद इब्राहिम की डी कंपनी हो या अरुण गवली की गैंग या फिर लश्कर-ए-तैयब्बा के आतंकवादी, प्रदीप शर्मा की रिवॉल्वर ने किसी को नहीं बख्शा. कुल 113 कथित अपराधी प्रदीप शर्मा की गोलियों का निशाना बने. उनपर बॉलीवुड में कई फिल्में भी बन चुकीं हैं. 'अब तक56' और 'मैक्सिमम' जैसी बॉलीवुड की फिल्में प्रदीप शर्मा की जिंदगी पर बनाईं गईं.

LIVE टीवी:

अपने करियर में नाम कमाने के साथ-साथ प्रदीप शर्मा कई बार विवादों में भी फंसे. साल 2008 में अंडरवर्ल्ड से रिश्तों के आरोप में प्रदीप शर्मा को पुलिस फोर्स से बर्खास्त कर दिया गया था इसके बाद प्रदीप शर्मा ने कानूनी लडाई लड़ी और महाराष्ट्र एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल ने उनके पक्ष में फैसला सुनाया. इसके अलावा, लखनभैया फर्जी एनकाउंटर केस में प्रदीप शर्मा की गिरफ्तारी भी हुई लेकिन बाद में अदालत ने उन्हें बरी कर दिया. प्रदीप शर्मा को दोबारा पुलिस नौकरी में बहाल किया गया.