close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेश में दलित आंदोलन के जवाब में सड़क पर उतरेंगे सवर्ण, इंटरनेट सेवा बंद

मध्य प्रदेश में सवर्ण संगठनों ने 10 अप्रैल (मंगलवार) को आंदोलन आहूत किया है.

मध्य प्रदेश में दलित आंदोलन के जवाब में सड़क पर उतरेंगे सवर्ण, इंटरनेट सेवा बंद
2 अप्रैल को दलितों के भारत बंद के दौरान ग्वालियर, भिंड और मुरैना जिले में हुई हिंसक झड़प में 8 लोगों की हुई थी मौत. प्रतीकात्मक तस्वीर

भोपाल: एसी/एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम को कथित तौर पर शिथिल किए जाने के विरोध में 2 अप्रैल को दलित संगठनों की ओर से किए गए राष्ट्रव्यापी आंदोलन के विरोध में मध्य प्रदेश के सवर्णों ने सड़क पर उतरने का फैसला लिया है. किसी भी संभावित हिंसा के मद्देनजर मध्य प्रदेश के कुछ जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. साथ ही स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी गई है. सवर्ण संगठनों ने 10 अप्रैल (मंगलवार) को आंदोलन आहूत किया है.

दो अप्रैल को दलितों के आंदोलन के दौरान ग्वालियर, भिंड और मुरैना जिले में हुई हिंसक घटनाओं में 8 लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना से सबक लेते हुए राज्य सरकार के आदेश पर इस बार इन जिलों में इंटरनेट सेवा 10 अप्रैल रात 12 बजे तक इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. सवर्ण संगठनों के आहूत प्रदर्शन के मद्देनजर प्रशासन ने कमर कस ली है. 

ये भी पढ़ें: SC-ST कानून कायम रहेगा, कोई भी ताकत इसे खत्म नहीं कर सकती : रामविलास पासवान

सोमवार को मध्य प्रदेश सरकार में गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने प्रशासनिक अफसरों से चर्चा की. प्रशासन ने एहतियात के तौर पर ग्वालियर, भिंड और मुरैना में प्रशासन ने स्कूल-कॉलेजों में 10 अप्रैल को छुट्टी घोषित कर दी है. साथ ही भिंड में सोमवार रात से पूरे दिन कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया गया है. ग्वालियर में इंटरनेट सेवाएं रविवार रात 11 बजे से मंगलवार रात 10 बजे तक बंद रहेंगी. मुरैना में सोमवार दोपहर 2 बजे से इंटरनेट सेवा बंद रहेगी.

ये भी पढ़ें: SC/ST एक्ट: हिंदू महासभा ने खून से लिखी पीएम मोदी को चिट्ठी, 'वापस लें रिव्यू पिटीशन'

पुलिस ने शुरू की गिरफ्तारियां
सवर्णों के आंदोलन के दौरान किसी भी संभावित हिंसा को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. 2 अप्रैल को हुई हिंसा मामले में केवल मुरैना में अब तक 61 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जबकि करीब 800 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज हैं। इसके साथ ही इलाके के दबंग छवि के लोगों को हिरासत में लिया गया है.

ये भी पढ़ें: मायावती ने बीजेपी पर लगाया बीएसपी को बदनाम करने का आरोप

मंत्री ने शांति बनाए रखने की अपील की
गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि 10 अप्रैल को बंद की कोई अधिकृत घोषणा किसी संगठन ने नहीं की है, लेकिन सोशल मीडिया पर कुछ क्षेत्रों में दुष्प्रचार किया जा रहा है. हम अलर्ट पर हैं, सुरक्षा की दृष्टि से सरकार ध्यान दे रही है. प्रशासन को अलर्ट पर रखा गया है. भूपेंद्र सिंह ने ZEE न्यूज के माध्यम से अपील की है कि जनता शांति बनाए रखे, मध्य प्रदेश का इतिहास शांति और सद्भाव का है. मंत्री ने पूरे घटनाक्रम पर नजर रखने के लिए अपने घर में कंट्रोल रूम बनवाया है.

ये भी पढ़ें: बिहार के पूर्व मंत्री ने दलितों के लिए अलग देश की मांग उठाई, कहा- हमें 'हरिजिस्तान' चाहिए

उन्होंने बताया कि 10 अप्रैल को संभावित बंद को लेकर ग्वालियर में धारा 144 लागू कर दी गई है, जो 20 अप्रैल तक लागू रहेगी. ग्वालियर में इंटरनेट सेवाएं रविवार रात से हुई बंद कर दी गई है, जो मंगलवार रात तक जारी रहेगा. ग्वालियर के 3 थाना क्षेत्रों में और डबरा के 2 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है.