close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इनकम टैक्स में देते थे छूट देने का लालच, करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश

ई-मेल के जरिये इनकम टैक्स में छूट देने का लालच देकर भारतीय नागरिकों के साथ करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह का अहमदाबाद साइबर क्राइम ब्रांच पर्दाफाश किया है. 

इनकम टैक्स में देते थे छूट देने का लालच, करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश
भारत सहित अन्य देश में यह गैंग सक्रिय था.

उदय रंजन. अहमदाबाद: ई-मेल के जरिये इनकम टैक्स में छूट देने का लालच देकर भारतीय नागरिकों के साथ करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह का अहमदाबाद साइबर क्राइम ब्रांच पर्दाफाश किया है. चार भारतीय तीन नाइजीरियाई को गिरफ्तार किया गया. गिरोह का लोग अब तक लाखों लोगों को धोखा दे चुके हैं. भारत सहित अन्य देश में यह गैंग सक्रिय था. गिरोह का सरगना चार्ल्स है जो नाइज़ीरिया का है. चार्ल्स मोबाइल फोन हैक करके डेटा चोरी करता था. सात महीने की कड़ी मेहनत के बाद, आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. गिरोहों के सदस्यों के मोबाइल से 4727 लोगों का डेटा मिला है. साइबर क्राइम ने अन्य राज्यों की पुलिस और आयकर विभाग को सूचना दी. 

अहमदाबाद के एक व्यवसायी को 8 महीने पहले एक मोबाइल फोन में एक ई-मेल प्राप्त हुआ था कि आपको इस लिंक पर क्लिक करने पर इनकम टैक्स रिफंड मिलेगा. शिकायतकर्ता ने लिंक पर क्लिक किया, एक फॉर्म ऑनलाइन भरा हुआ था और कुछ ही समय में मोबाइल पर एक लिंक आया जिस पर क्लिक करते ही मोबाइल फोन हैक हो गया. गिरोह ने बैंक की आईडी और मोबाइल से आईडी पासवर्ड सहित महत्वपूर्ण दस्तावेज चुरा लिए और शिकायतकर्ता के बैंक खाते से पैसे ट्रांसफर कर लिए. 

अहमदाबाद साइबर क्राइम ब्रांच के DCP राजदीपसिंह जालाने ने एक टीम बनाई. तफ्तीश में एक मोबाईल नंबर मिला जो मुंबई में एक्टिव था जिसकी लोकेशन ट्रैस करके इरफान देशमुख, तालीस देशमुख, निजामुद्दीन शेख और राजेश गायकवाड़ सहित चार लोगों ने चार नाइजीरियाई इदरीस डेकोस्टा, इम्फाइन औधू, और सेनान जोसेफ को गिरफ्तार कर लिया. 

ऐसे देते थे ठगी को अंजाम
आरोपियों ने बताया कि ग्राहक की ईमेल आईडी पर एक ईमेल भेजते थे. एक ऑनलाइन फॉर्म खोला गया था जिसमें TMOBILE नामक एक एप्लिकेशन शामिल था. जिस पर क्लिक करने के बाद मोबाइल हैक किया गया था,  सभी आईडी पासवर्ड और दस्तावेज चुराए. उसके बाद नाइजीरियन गैंग ने ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करके और अंत में बिटकॉइन के वॉलेट में सारे पैसे ट्रांसफर करके नाइजीरिया या अन्य देश में पैसे लेकर बैंक से पैसे नकदी में कन्वर्ट कर लिए थे. गुजरात के 116 लोगों के मोबाइल हैक किए गए. महाराष्ट्र के 223 लोगों के मोबाइल हैक करके पैसे निकाले. राजस्थान के 43, मध्य प्रदेश के 15, पंजाब के 54, हरियाणा के 131 और दिल्ली के 194 लोगों के मोबाइल हैक करके पैसे निकाले.