आतंकवाद से त्रस्‍त घाटी के टूर‍िज्‍म को बर्फबारी ने दी नई जि‍ंदगी

बर्फ़बारी ने कश्मीर में भले आम जन जीवन को पटरी से उतार दिया हो लेकि‍न पर्यटन के लिए यह बर्फबारी कुदरत के किसी वरदान से कम नहीं.

आतंकवाद से त्रस्‍त घाटी के टूर‍िज्‍म को बर्फबारी ने दी नई जि‍ंदगी

श्रीनगर: हिंसा और आतंकवाद के कारण कश्मीर में गर्मियों में पर्यटन सीज़न बेहद प्रभावित हुआ. मगर हाल की बर्फ़बारी के बाद कश्मीर की और पर्यटकों की बढ़ती दिलचस्पी ने उम्मीद बांध दी है. कश्मीर के ताज गुलमर्ग में दशकों के बाद देखी गई इतनी बर्फ के कारन यहाँ हज़ारों पर्यटक पहुंचे हैं. राजस्थान से आए पर्यटक मोफिल शेख कहते हैं "यह जगह बेमिसाल है. पूरा पैसा वसूल हुआ. हमने इतनी बर्फ पहले कभी नहीं देखी.

मोफिल की पत्नी कहती हैं "यहाँ कोई खौफ या डर नहीं है. हम बिलकुल सैफ हैं. पर्यटकों के लिए, लोगों को यहाँ जीवन में एक बार ज़रूर आना चाहिए.

गुलमर्ग इस बर्फ़बारी के कारण केवल पर्यटकों के लिए ही पहली पसंद नहीं बना है, बल्कि देश-विदेश के स्‍कीयर भी गुलमर्ग पहुंचे हैं. गुलमर्ग स्कीइंग के लिए दुनिया की बेहतरीन स्की डेस्टिनेशन के तौर पर मानी जाती है. यहां के बर्फ का पाउडर स्किंग के लिए नंबर वन पाउडर है. इतना ही नहीं यहां की वाइल्ड स्‍कीइंग स्लोप्स देश-विदेश के बेहतरीन स्‍कीयर्स के लिए पहली पसंद है. इस बार 10-12 फ़ीट की बर्फ ने उनको बेहद खुश कर दिया है.

हंगरी के स्कीयर डेनियल कहते हैं "मुझे इस जगह का पता अपने दोस्त से पता चला. यह जगह स्‍कीइंग के लिए बहुत बढ़िया है. यहां की स्लोप्स अंतराष्ट्रीय स्तर की है."

गुलमर्ग में इस वक्‍त 12 फ़ीट बर्फ है. जहाँ नज़र जाती है. वहां बर्फ की सफ़ेद चादर बिछी है. यही कारण है कि पर्यटन विभाग ने भी यहां विंटर स्पोर्ट भी शुरू किया है. स्की कोर्स शुरू किया जिसके अंदर होनहार और बर्फीली खेलों में रुचि‍ रखने वाले कश्मीर और देश के अन्‍य हि‍स्‍सों के युवाओं को ट्रेन किया जा रहा है. अगले महीने से गुलमर्ग, पहलगाम जैसे पर्यटन सथलों में पर्यटन विभाग बहुत से कार्यक्रम आयोजित करने का इरादा भी रखता है ताकि घाटी में विंटर टूरिज्म को बढ़ावा मिले.