जामिया हिंसा: प्रियंका गांधी का केंद्र पर हमला, 'यह भारतीय युवा है दबेगा नहीं, इसकी आवाज सुननी पड़ेगी'

प्रियंका ने कहा, 'जिस समय सरकार को आगे बढ़कर लोगों की बात सुननी चाहिए, उस समय बीजेपी सरकार उत्तर पूर्व, उत्तर प्रदेश, दिल्ली में विद्यार्थियों और पत्रकारों पर दमन के जरिए अपनी मौजूदगी दर्ज करा रही है. '

जामिया हिंसा: प्रियंका गांधी का केंद्र पर हमला, 'यह भारतीय युवा है दबेगा नहीं, इसकी आवाज सुननी पड़ेगी'
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय (Jamia Millia Islamia University) और अन्य शिक्षण संस्थानों में रविवार को कथित पुलिस कार्रवाई पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने सोमवार को बीजेपी (BJP) पर हमला किया है.

सोमवार को प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, "देश के विश्वविद्यालयों में घुस घुसकर विद्यार्थियों को पीटा जा रहा है. जिस समय सरकार को आगे बढ़कर लोगों की बात सुननी चाहिए, उस समय बीजेपी सरकार उत्तर पूर्व, उत्तर प्रदेश, दिल्ली में विद्यार्थियों और पत्रकारों पर दमन के जरिए अपनी मौजूदगी दर्ज करा रही है. यह सरकर कायर है."

Priyanka Gandhi Vadra

प्रियंका ने कहा कि यह भारतीय युवा है जो दबेंगे नहीं. अपने एक एक अन्य ट्वीट में कहा, "(बीजेपी) जनता की आवाज से डरती है. इस देश के नौजवानों, उनके साहस और उनकी हिम्मत को अपनी खोखली तानाशाही से दबाना चाहती है. यह भारतीय युवा हैं, सुन लीजिए मोदी जी, ये दबेंगे नहीं, इनकी आवाज आपको आज नहीं तो कल सुननी ही पड़ेगी."

प्रशांत किशोर ने भी साधा केंद्र पर निशाना
कई मुद्दों पर पार्टी से अलग रुख रख चुके जनता दल (यूनाइटेड) के नेता प्रशांत किशोर ने भी केंद्र पर हमला किया. उन्होंने अब वायरल हो चुके एक वीडियो को पोस्ट किया, जिसमें लड़कियों का एक समूह कथित उपद्रवियों को बचाता दिख रहा है. पुलिस उन उपद्रवियों को अपने कब्जे में लेना चाहती थी.

prashant kishore

किशोर ने कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया, "कथित कानून तोड़ने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस के अहिंसक, बहादुरी भरे और पेशेवराना रवैये को देखिए." रविवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), 2019 के विरोध में लगभग 1,000 लोगों ने प्रदर्शन किया, जिससे राष्ट्रीय राजधानी में पुलिस और छात्रों के बीच टकराव हो गया.