close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टुकड़े-टुकड़े गैंग के प्रोपेगेंडा में ना फंसे, जम्मू-कश्मीर में है 'ऑल इज वेल' | डोडा की तस्वीरें बयां कर रही हकीकत

कठुआ में गुरुवार को सभी स्कूल कॉलेज खुल गए हैं. वहीं जम्‍मू के सांबा मे शुक्रवार से सभी स्कूल कॉलेज खुल जाएंगे. जम्मू रीजन के कुल 10 जिले हैं. इसके अलावा डोडा में भी हालात तेजी से सुधर रहे हैं.

टुकड़े-टुकड़े गैंग के प्रोपेगेंडा में ना फंसे, जम्मू-कश्मीर में है 'ऑल इज वेल' | डोडा की तस्वीरें बयां कर रही हकीकत
डोडा शहर में गुरुवार को हालात सामान्‍य रहे. फोटो: एएनआई

नई दिल्‍ली: जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख में 370 और 35ए को लेकर केंद्र सरकार के फैसले के बाद स्थितियां तेजी से सामान्‍य हो रही हैं. कठुआ में गुरुवार को सभी स्कूल कॉलेज खुल गए हैं. वहीं जम्‍मू के सांबा मे शुक्रवार से सभी स्कूल कॉलेज खुल जाएंगे. जम्मू रीजन के कुल 10 जिले हैं. इसके अलावा डोडा में भी हालात तेजी से सुधर रहे हैं.

गुरुवार को यहां कर्फ्यू में छूट दी गई तो लोगों ने घरों से बाहर निकलकर रोजमर्रा की जरूरत की चीजें खरीदीं. इसके साथ ही सड़कों पर अच्‍छी भीड़ भी दिखाई दी. इस दौरान हालात पूरी तरह सामान्‍य रहे. जम्‍मू के अलावा लद्दाख में भी हालात सामान्‍य हैं, वहां पर सिर्फ कारग‍िल के कुछ हिस्‍सों में तनाव की खबरें हैं. माना जा रहा है कि वहां तनाव इस बात को लेकर है कि कारग‍िल में कुछ संगठन इस बात से खुश नहीं हैं कि उन्‍हें लेह के साथ रखा गया है. वह चाहते हैं कि उन्‍हें जम्‍मू कश्‍मीर के साथ ही रखा जाए.

इस बीच जम्‍मू कश्‍मीर के राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक के सलाहकार के विजय कुमार, केके शर्मा और फारुख खान ने पुंछ, राजौरी और दूसरी जगह सिविल सोसायटी के लोगों से मुलाकात कर हालात सामान्‍य करने की दिशा में कोशिश शुरू कर दी है.

इधर, जम्‍मू कश्‍मीर प्रशासन की ओर से चीफ सेक्रेटरी ने राज्‍य के सभी संभागीय और जिला स्‍तरीय कर्मचारियों से तुरंत छुट्टी रद्द कर ड्यूटी पर लौटने के लिए कहा है.

NSA डोभाल ने कश्मीरियों संग खाई बिरयानी
जम्मू कश्मीर के हालात को लेकर फैलाए जा रहे भ्रम को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) ने बुधवार को बेनकाब कर दिया था.  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) बुधवार को जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के शोपियां में जमीनी हकीकत का जायजा लेने पहुंचे. यहां लोगों ने उन्हें हाथों-हाथा लिया. डोभाल ने भी आम जनता की भावनाओं का ख्याल रखते हुए राह चलते ही उनके साथ बिरयानी का लुत्फ उठाया. डोभाल के बिरयानी खाने की यह तस्वीर साफ बयां कर रही है कि जम्मू-कश्मीर के हालात वैसे नहीं हैं जैसा कि कुछ राजनेता दर्शाने की कोशिश कर रहे हैं.

इस दौरान डोभाल ने आम लोगों से बातचीत भी की. उनसे जमीनी हकीकत समझने की कोशिश की क्या वाकई राज्य से धारा 370 और 35ए का प्रावधान हटाए जाने उनमें नाराजगी है. सामने आई तस्वीर तो साफ बयां कर रही है कि आम लोग इससे काफी खुश हैं. बस चंद राजनेता अपने निजी हितों की रक्षा के लिए संसद और मीडिया में झूठे बयान दे रहे हैं.

जम्मू-कश्मीर के शोपियां पहुंचे अजीत डोभाल ने पहले सुरक्षाबलों का हालचाल जाना. उसके बाद शोपियां के स्थानीय लोगों के साथ खाना भी खाया. जम्मू-कश्मीर में धारा 370 खत्म होने के बाद NSA प्रमुख अजीत डोभाल और जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह शोपियां पहुंचे. उन्होंने सुरक्षाबलों से बातचीत की और हालचाल जाना. 

इस दौरान अजीत डोभाल ने सुरक्षाबलों को अपने बारे में बताया. डीजीपी दिलबाग सिंह ने भी जवानों को बताया कि कैसे एनएसए प्रमुख उनके काम को सराहा है. इसके बाद NSA प्रमुख अजीत डोभाल शोपियां के लोगों से मुलाकात की. वहां उन्होंने लोगों से बातचीत करने के बाद उनके साथ खाना भी खाया. इस दौरान NSA प्रमुख सड़क के किनारे लोगों के साथ खाना खाते दिखे.

यहां आपको बता दें कि भारत सरकार ने लोकसभा और राज्यसभा में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल (Jammu Kashmir Reorganization Bill) पारित कराकर जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) को भारत के दूसरे राज्यों जैसा दर्जा दे दिया है. अब इस राज्य में धारा 370 और 35ए का प्रावधान खत्म हो चुका है.

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में जम्मू एवं कश्मीर के पुनर्गठन बिल राज्यसभा में पेश किया. यह बिल राज्यसभा और लोकसभा दोनों से पास हो चुका है. साथ ही इसपर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी मुहर लगा दी है.