close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

J&K: पुलमावा जैसी वारदात को अंजाम देने की कोशिश, सुरक्षाबलों ने आतंकी साजिश को किया नाकाम

जम्‍मू-राजौरी हाईवे पर सुरक्षाबलों को एक संदिग्‍ध आईईडी मिला है. जिसकी जांच सुरक्षाबल कर रहे हैं. संदिग्‍ध आईईडी की बरामदगी के चलते सुरक्षाबलों ने हाईवे पर वाहनों की आवाजाही को रोक दिया है.

J&K: पुलमावा जैसी वारदात को अंजाम देने की कोशिश, सुरक्षाबलों ने आतंकी साजिश को किया नाकाम
संदिग्‍ध आईईडी की बरामदगी के बाद सुरक्षाबलों ने हाईवे पर वाहनों की आवाजाही को रोक दिया है.

नई दिल्‍ली: जम्‍मू और कश्‍मीर में तैनात सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए आतंकियों द्वारा रची गई एक बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया गया है. इस बार आतंकियों ने इस साजिश को जम्‍मू-राजौरी हाईवे पर अंजाम देने की कोशिश की थी. गनीमत नहीं कि समय रहते सुरक्षाबलों को आतंकियों की इस साजिश के बाबत पता चला गया. जिसके बाद भारतीय सेना, सीआरपीएफ और जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस की ज्‍वाइंट टीम ने इलाके को घेरेबंदी में ले लिया. मौके से सुरक्षाबलों को एक संदिग्‍ध आईईडी मिला है. जिसकी जांच सुरक्षाबल कर रहे हैं. संदिग्‍ध आईईडी की बरामदगी के चलते सुरक्षाबलों ने हाईवे पर वाहनों की आवाजाही को रोक दिया है. 

सूत्रों के अनुसार, घाटी में चल रहे ऑपरेशन ऑल आउट की सफलता से आतंकी बुरी तरह से झल्‍लाए हुए हैं. बीते 18 दिनों में 18 आतंकियों को अंजाम तक पहुंचाने के बाद आतंकी घाटी में सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की साजिश में लगे हुए हैं. अपनी इसी मंसूबे के तहत उन्‍होंने जम्‍मू-राजौरी हाईवे पर सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की साजिश रची. साजिश के तहत, हाईवे से गुजरने वाले सैन्‍य बलों के काफिले को निशाना बनाया जाना था. आतंकियों ने यह साजिश बिल्‍कुल 14 फरवरी को पुलवामा में हुई आतंकी वारदात की तरह प्‍लान किया था. 14 फरवरी को हुई इस आतंकी वारदात में सीआरपीएफ के 40 जवानों को शहादत देने पड़ी थी. 

यह भी पढ़ें: जम्‍मू-कश्‍मीर: खत्‍म नहीं हुई घाटी की सियासी जंग, आगे अभी बहुत कुछ बाकी है...

यह भी पढ़ें: J&K: मूसा के बाद सुरक्षाबलों को है इस आतंकी की तलाश, लोकसभा चुनाव से दूर रहने की थी धमकी

सूत्रों के अनुसार, सुरक्षाबलों की चौकसी के चलते आतंकी इस बार अपने इरादों को अंजाम देने में नाकाम रहे. दरअसल, हाईवे की गश्‍त पर निकली सुरक्षाबलों की एक टीम की नजर इस संदिग्‍ध आईडी पर पड़ गई. जिसके बाद, इस टीम ने संदिग्‍ध आईईडी की सूचना सुरक्षाबलों के आला अधिकारियों को दी. जिसके बाद, बिना समय गंवाए बम डिस्‍पोजल स्‍क्‍वायड टीम के साथ भारी संख्‍या में सुरक्षा बल मौके पर पहुंच गए. किसी भी तरह की जन हानि से बचने के लिए सबसे पहले सुरक्षाबलों ने इस हाईवे पर आम वाहनों की आवाजाही को रोका, जिसके बाद आईईडी की पड़ताल शुरू की गई. फिलहाल, सुरक्षाबल आईईडी की जांच कर निष्क्रिय करने की प्रक्रिया में जुटे हुए हैं.

यह भी पढ़ें: पाकिस्‍तान ने फिर किया सीजफायर उल्‍लंघन, राजौरी में गोलीबारी में किशोर घायल

घाटी की सुरक्षा से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, सेना, सीआरपीएफ और जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस की संयुक्‍त टीम ने हाईवे के इर्द गिर्द सर्च ऑपरेशन चलाया है. इस ऑपरेशन का मकसद आईईडी ब्‍लास्‍ट के मकसद से आए आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुंचाना है. उल्‍लेखनीय है कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद से सुरक्षाबलों को इंटेलीजेंस इनपुट मिल रहे हैं. जिसमें बताया गया है कि आतंकी पुलवामा की तरह दूसरी आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं. इंटेलीजेंस इनपुट मिलने के बाद घाटी में तैनात सुरक्षाबल हर तरह की चौकसी बरत रहे हैं. 

(इनपुट: Raju Kerni)