मध्य प्रदेशः सतना के मझगंवा रेंज में बाघ की मौत, वन विभाग ने जताई शिकार की आशंका
topStorieshindi

मध्य प्रदेशः सतना के मझगंवा रेंज में बाघ की मौत, वन विभाग ने जताई शिकार की आशंका

वन विभाग ने ऐसी आशंका जताई है कि बाघ को करंट लगाकर मारा गया है, हालांकि विभाग ने अभी इस मामले पर चुप्पी साध रखी है और कुछ भी कहने से कतरा रहा है और मामला सामने आने के बाद विभाग के अधिकारी मामले की जांच की बात कह रहे हैं.

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के सतना में एक बाघ का शव बरामद हुआ है. बाघ की मौत बेहद संदेहास्पद स्थितियों में हुई है, जिसके चलते वन विभाग की टीम, पुलिस और डॉक्टर बाघ की मौत पर शिकार की आशंका जाहिर कर रही है. बता दें घटना सतना के मझगंवा रेंज के अमरिती बीट का है, जहां सोमवार को वन विभाग को बाघ का शव मिला है. वन विभाग ने ऐसी आशंका जताई है कि बाघ को करंट लगाकर मारा गया है, हालांकि विभाग ने अभी इस मामले पर चुप्पी साध रखी है और कुछ भी कहने से कतरा रहा है और मामला सामने आने के बाद विभाग के अधिकारी मामले की जांच की बात कह रहे हैं.

बता दें बाघ का शव मिलने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और विभाग रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ भी कहने की बात कह रहा है. शव बरामद होने के बाद विभाग ने डॉक्टर्स को इसकी जानकारी दी, जिसके बाद मौके पर पहुंची वेटनरी के डॉक्टर्स ने बाघ की मौत के कारणों का पता लगाने की कोशिश शुरू कर दी है. मिली जानकारी के मुताबिक बाघ का पोस्टमार्टम वन विभाग के अफसरों की मौजूदगी में किया जाएगा, ताकि किसी भी तरह की गड़बड़ी न हो. अफसरों का कहना है कि पोस्टमार्टम के बाद बाघ की मौत की असली वजह सामने आ जाएगी और इसी के बाद कुछ कहा जा सकता है.

जंगल में तेंदुए को कुत्ते ने ललकारा, VIDEO हुआ वायरल

बता दें पिछले कुछ महीनों से मध्य प्रदेश में बाघों की मौत के कई मामले लगातार सामने आ चुके हैं, लेकिन विभाग है कि अभी भी बाघों की मौत का सिलसिला है कि थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. बता दें इससे पहले रातापानी अभ्यारण्य में भी एक बाघ की संदेहास्पद परिस्थितियों में मौत हो गई थी, जिसके बारे में विभाग ने चुप्पी साध ली थी और कुछ भी कहने से इंकार कर दिया था.

Madhya Pradesh: Tiger dead body found in Satna

सवाई माधोपुर: लकड़ी लेने गई महिला पर टाइगर ने किया हमला, मौत

ऐसे में एक बार फिर बाघ की इस तरह से संदेहास्पद परिस्थितियों में मौत ने विभाग की परेशानियां बढ़ा दी हैं. हालांकि विभाग शिकारियों पर शिकंजा कसने की बात कह रहा है, लेकिन इस पर कोई कदम उठाते नहीं दिख रहा.

ये भी देखे

Trending news