close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेश में नई गन्ना नीति पर होगा विचार : मंत्री सचिन यादव

किसानों को कृषि मंत्री सचिन यादव ने भरोसा दिलाया कि उनकी मांगों को पूरा किया जाएगा, साथ ही नई गन्ना नीति बनाई जाएगी. 

मध्य प्रदेश में नई गन्ना नीति पर होगा विचार : मंत्री सचिन यादव
फाइल फोटो

भोपाल: मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले के गन्ना किसानों ने गुरुवार को भोपाल में आंदोलन किया. किसानों को कृषि मंत्री सचिन यादव ने भरोसा दिलाया कि उनकी मांगों को पूरा किया जाएगा, साथ ही नई गन्ना नीति बनाई जाएगी. नरसिंहपुर के गन्ना किसान गुरुवार सुबह विभिन्न साधनों से राजधानी पहुंचे. गन्ना किसान अपनी मांगों को लेकर विधानसभा की ओर बढ़ रहे थे तो पुलिस ने उन्हें बोर्ड ऑफिस पर रोका. मौके पर पहुंचे कृषि मंत्री यादव से वार्ता विफल रही. किसान आंदोलन की जिद पर अड़े रहे. बाद में मंडी बोर्ड कार्यालय में किसानों की पंचायत हुई. 

मध्य प्रदेश में 55 लाख किसानों का कर्ज होगा माफ, प्रशासकीय आदेश जारी

एक सप्ताह तक आंदोलन स्थगित
इस मौके पर यादव ने कहा कि इस समय प्रदेश में तीन 'क' कांग्रेस, किसान, कमलनाथ की सरकार है. किसानों की समस्या का निपटारा किया जाएगा. राज्य में नई गन्ना नीति बनाने का प्रयास होगा. कृषि मंत्री ने गन्ना किसानों की कुछ मांगों पर तत्काल कार्यवाही के निर्देश जारी किए. गन्ना मूल्य व बोनस की मांग की पूर्ति के लिए एक सप्ताह का समय मांगा. कृषि मंत्री के आग्रह पर गन्ना किसानों ने एक सप्ताह तक आंदोलन स्थगित रखने का निर्णय लिया.

मप्र में नहीं रुक रही क‍िसानों की आत्‍महत्‍या, कर्ज से परेशान एक और किसान ने जान दी

छोटे किसानों को काफी हद तक फायदा
बता दें अगर राज्य सरकार गन्ना किसानों की मांग पूरा करती है तो इससे छोटे किसानों को काफी हद तक फायदा हो सकता है. सरकार अगर किसानों की मांग पूरी करती है तो इससे दलालों को भी भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि जिस तरह से गन्ना दलाल किसानों की जमीन को कम दिखाकर अपना माल बेचते थे, उस पर नई नीति लागू होने से शिकंजा कस जाएगा.

मध्‍यप्रदेश: नहीं थम रहा किसानों की आत्‍महत्‍या का सिलसिला, छह दिन में 6 की मौत

बता दें प्रदेश के सभी गन्ना किसान संघर्ष समिति नरसिंहपुर के आह्वान पर भोपाल आए थे, जिसमें किसानों ने सरकार के समक्ष अपनी मांगें रखी थीं. ये सभी किसान अमरकंटक एक्सप्रेस से बड़ी संख्या में भोपाल पहुंचे थे. जिसके चलते हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर बड़ी मात्रा में पुलिस बल की तैनाती की गई थी.