सड़क को लेकर सियासत, कांग्रेस बोली- सिंधिया को खुश करने के लिए खर्च किए जा रहे करोड़ों

राजपथ का नाम सुनते ही आपके दिमाग में राष्ट्रपति भवन की ओर जाने वाली मार्ग का का ख्याल आता होगा लेकिन दिल्ली के बाद अब ग्वालियर में भी एक राजपथ बनने जा रहा है.

सड़क को लेकर सियासत, कांग्रेस बोली- सिंधिया को खुश करने के लिए खर्च किए जा रहे करोड़ों
सांकेतिक तस्वीर

ग्वालियर: राजपथ का नाम सुनते ही आपके दिमाग में राष्ट्रपति भवन की ओर जाने वाली मार्ग का का ख्याल आता होगा लेकिन दिल्ली के बाद अब ग्वालियर में भी एक राजपथ बनने जा रहा है. हालांकि इस राजपथ के निर्माण के साथ सियासत भी शुरू हो गई है. कांग्रेस इसे एक नेता विशेष को खुश करने के लिए जनता की गाढ़ी कमाई को बर्बाद करने का आरोप लगा रहे हैं तो वही बीजेपी इसे राजपथ नहीं जनपथ कह रही है और कह रही है कि इस सड़क के विकसित होने से आम लोगों को लाभ होगा.

Debate करता 2 साल का मासूम, Video देख CM शिवराज ने बताया जन्मजात लीडर, यूजर्स ने दिए ऐसे रिएक्शन

दरअसल स्मार्ट सिटी द्वारा लगभग 300 करोड़ की लागत से 15 किलोमीटर लंबे स्मार्ट रोड का निर्माण किया जा रहा है. यह रोड जय विलास पैलेस के सामने से होते हुए अचलेश्वर मंदिर, सिंधिया की छतरी एमएलबी कॉलेज, मेडिकल कॉलेज होते हुए कंपू के रास्ते आगे तक जाएगा. चूंकि इस रोड पर काफी हेरिटेज बिल्डिंग है इसलिए यहां लोगों का भी आना जाना रहता है.

लोगों की समस्या को खत्म होगी
स्मार्ट सिटी सीओ जयति सिंह का कहना हैं कि यहां से गुजरने वाले लोगों को कोई समस्या ना हो यही कारण है कि इस रोड को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस रोड बनाया जा रहा है, इसके साथ ही स्मारकों के आसपास लोगों के बैठने के लिए बेहतर व्यवस्थाएं भी की जा रही हैं. 

सिंधिया को खुश करने के लिए प्रोजेक्ट
हालांकि स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट के शुरू होते ही कांग्रेस ने इसे आड़े हाथों लिया है कांग्रेस का कहना है कि यह रोड जयविलास पैलेस से सिंधिया की छतरी होते हुए आगे जाएगा, सीधे तौर पर सिंधिया को खुश करने के लिए एक सड़क का निर्माण किया जा रहा है जबकि कुछ साल पहले ही करोड़ों रुपए खर्च करके इस रोड को थीम रोड के तौर पर डेवलप किया गया था, उस समय हुए विकास को तोड़ कर एक बार फिर इसे राजपथ के तौर पर विकसित किया जा रहा है जो कहीं ना कहीं जनता की गाढ़ी कमाई का दुरुपयोग है.

बीजेपी ने किया पलटवार
वहीं कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी ने पलटवार किया है और कहा है कि विकास एक सतत प्रक्रिया है जब हमने थीम रोड बनवाया था तब सिंधिया जी कौन से बीजेपी में थे. अब एक बार फिर यह रोड बन रहा है भले ही इसका नाम राजपथ हो लेकिन असली मायने में यह जनपथ है. कांग्रेस को तथ्यों की जानकारी नहीं है और वह इसी तरह के अनर्गल आरोप लगाते रहते हैं. 

कांग्रेस ने किया ओबीसी वोटबैंक पर फोकस, पिछड़ा वर्ग को साधने का बनाया ये प्लान

पहले से राजपथ नाम
दरअसल माना जाता है कि सिंधिया रियासत कालीन समय में सिंधिया राजपरिवार के लोग जय विलास पैलेस से निकलकर इसी रोड से अपनी कुलदेवी मांढरे की माता पर पूजा करने जाते थे. तब यह मार्ग राजपथ के तौर पर ही जाना जाता था.

WATCH LIVE TV