close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारी बारिश के बेहाल महाराष्ट्र, रत्नागिरी में तिवरे डैम टूटा, 6 लोगों के शव मिले, कई लापता

इस डैम की कैपेसिटी 0.08 टीएमसी बताई जा रही है. 5बीएन एनडीआरएफ की एक टीम को रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए सिंधुदुर्ग भेजा गया है. इसके अलावा भी स्थानीय प्रशासन पुलिस के साथ मिलकर राहत कार्य कर रहा है.  

भारी बारिश के बेहाल महाराष्ट्र, रत्नागिरी में तिवरे डैम टूटा, 6 लोगों के शव मिले, कई लापता
राहत एजेंसियों का कहना है कि डैम के पानी में बहे लोगों के निचले इलाकों में मिलने की आशंका है.

मुबंई, (प्रणव पोलेकर): महाराष्ट्र में लगातार हो रही बारिश की वजह से रत्नागिरी डिस्ट्रिक्ट में चिप्लून तहसील में तिवरे नाम का एक छोटा डैम टूट गया. डैम के टूटने से निचले इलाको में मौजूद करीब सात गांवों में बाढ़ आ गई. इस घटना में लगभग 18-20 लोगों के लापता होने के सूचना है. बताया जा रहा है कि रत्नागिरी इलाके में लगातार हो रही भारी बारिश की वजह से ये नौबत आई है.

 

NDRF के मुताबिक, डैम के पास मौजूद एक छोटे से गांव के करीब 18 लोग अभी भी गायब बताए जा रहे है. 6 लोगों के शव रेस्क्यू टीम ने बरामद कर लिया है. इस डैम की कैपेसिटी 0.08 टीएमसी बताई जा रही है. 5बीएन एनडीआरएफ की एक टीम को रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए सिंधुदुर्ग भेजा गया है. इसके अलावा भी स्थानीय प्रशासन पुलिस के साथ मिलकर राहत कार्य कर रहा है.  

जो लोग गायब हुए है उनके नाम जारी किये गए है
1- अनंत हरिभाऊ चव्हाण (63)
2- अनिता अनंत चव्हाण (58)
3- रणजित अनंत चव्हाण (15)
4- ऋतुजा अनंत चव्हाण (25)
5- दुर्वा रणजित चव्हाण (1.5)
6- आत्माराम धोंडू चव्हाण (75)
7- लक्ष्मी आत्माराम चव्हाण (72)
8- नंदाराम महादेव चव्हाण (65)
9- पांडुरंग धोंडू चव्हाण (50)
10- रवींद्र तुकाराम चव्हाण (50)
11- रेश्मा रविंद्र चव्हाण (45)
12- दशरथ रविंद्र चव्हाण (20)
13- वैष्णवी रविंद्र चव्हाण (18)
14- अनुसिया सीताराम चव्हाण (70)
15- चंद्रभागा कृष्णा चव्हाण (75)
16- बळीराम कृष्णा चव्हाण (55)
17- शारदा बळीराम चव्हाण (48)
18- संदेश विश्वास धाडवे (18)
19- सुशील विश्वास धाडवे (48)
20- रणजित काजवे (30)
21- राकेश घाणेकर(30)

राहत एजेंसियों का कहना है कि डैम के पानी में बहे लोगों के निचले इलाकों में मिलने की आशंका है. लेकिन उन्हें हुए नुकसान के बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है. जिला प्रशासन, पुलिस और कुछ स्वयंसेवी संस्थाओं ने राहत और बचाव का काम शुरू कर दिया है.