केवल मंदिर बनने की बात होगी नहीं तो मध्यथता का बहिष्कार होगाः हिंदू महासभा

हिंदू महासभा ने कहा है कि केवल राम मंदिर बनाने की बात की जानी चाहिए.

केवल मंदिर बनने की बात होगी नहीं तो मध्यथता का बहिष्कार होगाः हिंदू महासभा
हिंदू महासभा ने कहा केवल राम मंदिर बनाने की बात पर मध्यस्थों को बात करनी चाहिए. (प्रतीकात्मक फोटो)

विकास चौधरी/नई दिल्लीः अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा कि उच्चतम न्यायालय द्वारा रविशंकर को श्रीराम जन्मभूमि मुकदमे में मध्यस्थ नियुक्त करने के निर्णय का स्वागत एवं समर्थन करते हैं. परंतु बाबरी मस्जिद पर बात नहीं होगी. उन्होंने कहा है कि पूर्व में भी रविशंकर द्वारा श्रीराम जन्मभूमि मामले को बातचीत से सुलझाने का प्रयास किया था. जिसमें अखिल भारत हिन्दू महासभा सहित सभी पक्षकारों ने हिस्सा लिया था. 

उन्होंने कहा कि हमें आशा है कि रविशंकर मामले को बातचीत से सुलझा लेंगे तथा श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर बनने का रास्ता शीघ्र ही प्रशस्त होगा. भगवान श्रीराम 125 करोड़ हिंदुओं के मर्यादा पुरुषोत्तम हैं उनके जन्मस्थान पर मन्दिर का नहीं बनना हिंदुस्तान पर सबसे बड़ा कलंक है. 

मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा कि मंदिर के अलावा किसी अन्य विषय पर कोई बातचीत नहीं होगी. मध्यस्थों को केवल राम मंदिर के निर्माण पर ही समझौता करने की बात करनी चाहिए. यदि मध्यस्थों द्वारा बाबरी मस्जिद पर बात होगी, तो हिन्दू महासभा मध्यस्थता का बहिष्कार करेगी. शर्मा ने कहा कि बाबर लुटेरा और आक्रमणकारी था. उसने लाखों हिंदुओं का कत्लेआम किया था तथा हजारों हिन्दू मन्दिरों को तोड़वाया था. इसलिए ऐसे हिन्दू विरोधी बाबर के नाम पर कोई मस्जिद हिंदुस्तान में बनने नहीं दिया जाएगा. 

वहीं परमार्थ निकेतन ऋषिकेश के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती ने कहा कि कड़ोरों लोगों की आस्था का विषय है तो समाधान निकलना चाहिए. हम सब मिलकर एक ऐसा समाधान दें कि जो इस देश को एक नई दिशा दिखाएं सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का हम स्वागत करते हैं और हमें उम्मीद है कि मध्यस्थों के द्वारा राम मंदिर के निर्माण का मार्ग सूझबूझ के साथ प्रशस्त किया जाएगा.