धरने पर बैठी CM ममता का तीखा कमेंट, मोदी सरकार ने किसानों की नींद छीन ली

ममता ने मेट्रो सिनेमा के सामने धरनास्थल से फोन पर किसानों के सम्मेलन को संबोधित किया जो नेताजी इंडोर स्टेडियम में बैठकर लाउडस्पीकर पर ममता का संबोधन सुन रहे थे. 

धरने पर बैठी CM ममता का तीखा कमेंट, मोदी सरकार ने किसानों की नींद छीन ली
ममता बनर्जी केंद्र सरकार के खिलाफ धरने पर बैठी हैं.
Play

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने किसानों की नींद “छीन” ली है. उन्होंने दावा किया कि आम चुनावों से पहले उनके साथ धोखा किया जा रहा है. तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने आश्वासन दिया अगर केंद्र में सत्ता बदलती है तो किसानों के हितों को प्राथमिकता दी जाएगी. मुख्यमंत्री सीबीआई द्वारा कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से चिटफंड घोटालों के संबंध में पूछताछ की कोशिश के खिलाफ रविवार रात से धरने पर बैठी हुई हैं.

ममता ने मेट्रो सिनेमा के सामने धरनास्थल से फोन पर किसानों के सम्मेलन को संबोधित किया जो नेताजी इंडोर स्टेडियम में बैठकर लाउडस्पीकर पर ममता का संबोधन सुन रहे थे. उन्होंने कहा कि भाजपा और मोदी सरकार ने किसानों की नींद छीन ली है. उन्होंने दावा किया कि देश में करीब 12 हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं. 

शुक्रवार को संसद में पेश अंतरिम बजट में किये गए वादों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा, 'किसानों के साथ आम चुनाव से पहले धोखा किया जा रहा है.' उन्होंने कहा कि मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने की बात करती है, लेकिन हम पहले ही उनकी आमदनी तीन गुणा बढ़ा चुके हैं.

देश, संविधान बचाने के लिए जारी रखूंगी सत्याग्रह : ममता बनर्जी
चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस प्रमुख से पूछताछ करने की सीबीआई की कोशिश के खिलाफ धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि देश और संविधान को जब तक बचा नहीं लिया जाता उनका 'सत्याग्रह' जारी रहेगा. भाजपा नीत केन्द्र सरकार के खिलाफ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कार्यकर्ताओं ने राज्य के अधिकतर हिस्सों में रैलियां आयोजित की और धरने दिए. दो जिलों में ट्रेनों की आवाजाही भी रोकी गई.

बनर्जी 'संविधान पर हुए हमले' के खिलाफ रविवार रात करीब साढ़े आठ बजे धरने पर बैठीं. वह अभी भी वरिष्ठ मंत्रियों और पार्टी के सदस्यों के साथ अब भी शहर के बीचों बीच ‘मेट्रो चैनल’ में एक अस्थायी मंच पर बनी हुईं हैं.

वाम मोर्चा सरकार द्वारा कार कारखाना स्थापित करने के लिए सिंगुर में भूमि अधिग्रहण के खिलाफ भी ममता ने 2006 दिसम्बर में यहीं 25 दिन की भूखहड़ताल की थी. सिंगूर अभियान से ही ममता के 2011 में सत्ता में आने की राह खुली थी. गौरतलब है कि चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार से पूछताछ के लिए सीबीआई की टीम पहुंचने के बाद से राज्य में राजनीति माहौल गर्मा गया.

सीबीआई की एक टीम रविवार को मध्य कोलकाता में कुमार के लाउडन स्ट्रीट स्थित आवास पहुंची थी लेकिन वहां तैनात संतरियों एवं कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया और उन्हें जीप में भर कर थाने ले गए.

बनर्जी ने धरना स्थल पर मौजूद पत्रकारों से कहा, ‘यह एक सत्याग्रह है और जब तक देश सुरक्षित नहीं हो जाता मैं इसे जारी रखूंगी.’