close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

घाटी में सेना का आतंक पर करारा वार, जैश ए मोहम्मद का नेतृत्व संभालने को नहीं कोई तैयार

लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने बुधवार को कहा कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद सुरक्षा बलों ने घाटी में जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की, जिससे ऐसी स्थिति बन गई है कि कोई भी इस संगठन का नेतृत्व लेने के लिए इच्छुक नहीं है.

घाटी में सेना का आतंक पर करारा वार, जैश ए मोहम्मद का नेतृत्व संभालने को नहीं कोई तैयार

श्रीनगर: घाटी में आतंकवाद के बढ़ते कदमों पर सेना ने ब्रेक लगा दिए हैं. खासकर पिछले दो सालों में सेना ने जिस तरह से आतंकियों का चुन चुन कर सफाया किया है, उसी का असर है कि अब कोई भी आतंक की राह पर नहीं जाना चाहता. लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने बुधवार को कहा कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद सुरक्षा बलों ने घाटी में जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की, जिससे ऐसी स्थिति बन गई है कि कोई भी इस संगठन का नेतृत्व लेने के लिए इच्छुक नहीं है.

लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लों ने जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह एवं सीआरपीएफ महानिरीक्षक जुल्फिकार हसन ने कहा, “ इस साल अब तक 41 आतंकवादी मारे गए. इनमें से 25 जैश-ए-मोहम्मद के थे. 13 विदेशी आतंकवादी थे - पाकिस्तानी एवं श्रेणी ए और उससे ऊपर के.’

श्रीनगर की चिनार कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लन ने कहा, “हमने जैश-ए-मोहम्मद के नेतृत्व को निशाना बनाया और अब स्थिति ऐसी है कि कोई भी घाटी में जैश की कमान नहीं संभालना चाहता. पाकिस्तान के सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के हम जैश का शमन जारी रखेंगे.” डीजीपी सिंह ने कहा कि घाटी में 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकवादी हमले जैसे कुछेक मामलों को छोड़ 2018 में और उसके बाद से अब तक आतंकवाद को रोकने में कामयाबी मिली है.

जैश के 25 आतंकियों को ढेर किया
पुलिस ने बुधवार को कहा कि बड़ी संख्या में कश्मीरी युवा आतंकवाद से दूर हो गए, लेकिन सुरक्षा कारण से सटीक संख्या प्रकट करना ठीक नहीं होगा. “ऐसे कई युवा हैं, जिन्होंने या तो आत्मसमर्पण कर दिया है या उन्हें आतंकवाद में शामिल होने से रोक दिया गया है. पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने कहा, "हम उनकी सुरक्षा के लिए सटीक संख्या प्रकट नहीं कर सकते." उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में 2018 में कानून व्यवस्था की स्थिति में सकारात्मक सुधार देखे हैं.

उन्होंने कहा, "स्थानीय युवाओं की आतंकवाद में भर्ती बहुत कम हो गई है और उम्मीद है कि आगे कम होगी," उन्होंने कहा, 2018 से अब तक 272 आतंकवादी मारे गए और कई पकड़े गए. आतंकवादियों के लिए काम कर रहे बड़े पैमाने पर मॉड्यूल का भी भंडाफोड़ दिया गया है और जो गिरफ्तार हुए हैं वे न्यायिक हिरासत में हैं."

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने कहा, "पथराव की घटनाओं में भारी गिरावट आई है और कानून-व्यवस्था में सुधार हुआ है." वही सुरक्षाबलों ने  लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी संगठन में भारी सेंध लगाई है. उन्होंने कहा कि राज्य में पंचायत चुनाव सफलतापूर्वक संपन्न हुए और जम्मू-कश्मीर में चल रहे संसदीय चुनावों में भी कोई भी चुनाव संबंधी हिंसा नहीं हुई है.

कॉन्फ़्रेन्स में जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी) लेफ्टिनेंट जनरल कंवल जीत सिंह ढिल्लों ने कहा कि "बड़ी संख्या में आतंकवादियों के सफाए के कारण कश्मीर में जैश का नेतृत्व करने के लिए कोई आगे नहीं आ रहा है." ढिल्लन ने कहा कि पुलवामा हमले के बाद इस साल अभी तक 69 आतंकियों को मार गिराया जा चुका है 12 को ज़िंदा पकड़ा गया, जिनमें जैश के 25 आतंकियों ढेर हुए हैं. उसमें 13 पाकिस्तान से आए आतंकी शामिल हैं.

उन्होंने कहा कि लश्कर ने बडगाम मुठभेड़ के दौरान बंधक बनाकर रखने के बाद एक जवान लड़के की हत्या कर दी थी, कश्मीरियों को यह पूछना चाहिए कि क्या यह जिहाद है. जीओसी ने स्थानीय युवाओं से भी अपील की है कि वे मुठभेड़ के दौरान या उसके बाद मुठभेड़ स्थलों पर न आएं. श्रीनगर के पुलिस कंट्रोल रूम में सेना और जम्मू पुलिस और सीआरपीएफ ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी है.