Vaccine बर्बादी के मामले में Jharkhand-Chhattisgarh से पीछे है Rajasthan, पढ़ें आंकड़े

वैक्सीन की शुरुआत होने के साथ ही चरणबद्ध तरीके से किए गए वैक्सीनेशन (Vaccination) के चलते राजस्थान में अब तक करीब 7 फ़ीसदी वैक्सीन बर्बाद हुई है.

Vaccine बर्बादी के मामले में Jharkhand-Chhattisgarh से पीछे है Rajasthan, पढ़ें आंकड़े
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jaipur: राजस्थान (Rajasthan) में अगर वैक्सीन (Vaccine) बर्बाद होने की बात की जाए तो राजस्थान इस मामले में काफी बेहतर स्थिति में है. वैक्सीन की शुरुआत होने के साथ ही चरणबद्ध तरीके से किए गए वैक्सीनेशन (Vaccination) के चलते राजस्थान में अब तक करीब 7 फ़ीसदी वैक्सीन बर्बाद हुई है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan में Corona मौतों के सरकारी आंकड़े पूरी तरह से प्रमाणिक: Dr. Raghu Sharma

यह वैक्सीन भी उस शुरुआती दौर की है, जब लोग वैक्सीन लगवाने के लिए नहीं पहुंच रहे थे. राजस्थान को वैक्सीन मिलने की अगर बात की जाए तो अब तक राजस्थान में करीब एक करोड़ 75 लाख से ज्यादा वैक्सीन प्राप्त हुई है, जिसमें से वैक्सीन बर्बाद होने का आंकड़ा महज 7 फ़ीसदी तक ही है. इसमें भी 60+ की आयु वर्ग का जो वैक्सीनेशन हुआ था, उसमें वैक्सीन के ज्यादा बर्बाद होने की शिकायतें मिली थी तो वहीं 18+ के वेक्सिनेशन की बात की जाए तो यह बर्बादी महज नाम मात्र की ही है. 

यह भी पढ़ें- Corona Update: राजस्थान में कोरोना के मिले 3886 नए केस, 13,192 लोग हुए ठीक

18+ की वैक्सीन की बात की जाए तो अब तक करीब 4 हजार वैक्सीन बर्बाद हुई है. राजस्थान को प्राप्त हुई वैक्सीन में अब तक करीब साढ़े 11 लाख वैक्सीन बर्बाद हुई है, जो 7 फीसदी का ही आंकड़ा है जबकि केंद्र का मापदंड ही 10 फीसदी का है. वैक्सीन के बर्बाद होने में झारखंड और छत्तीसगढ़ सबसे आगे हैं.