close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीबीडीटी की बड़ी कार्रवाई, J&K बैंक फ्रॉड मामले में बिजनेसमैन पर की छापेमारी

इनकम टैक्स की छापेमारी में पता चला कि ग्रुप ने बैंको से करीब 200 करोड़ रुपये का बैंक लोन लिया, जोकि बाद में NPA बन गया.

सीबीडीटी की बड़ी कार्रवाई, J&K बैंक फ्रॉड मामले में बिजनेसमैन पर की छापेमारी
ग्रुप ने पैसों के गबन के लिये जम्मू कश्मीर में एक होटल की जमीन अपने ही परिवार के आदमी को 35 लाख मे बेचना दिखाया और कागजो में फर्जी नाम से 1 लाख रुपये महीने किराया भी दिखाया.

कश्मीर: इनकम टैक्स विभाग ने मंगलवार को जम्मू कश्मीर में J&K बैंक से जुड़े मामले में छापेमारी की. छापेमारी कश्मीर के बिजनेसमैन पर की गयी जो होटल और सिक्योरिटी देने का बिजनेस करता है. इस ग्रुप ने पंजाब में एक मेडिकल कॉलेज में भी निवेश किया हुआ था, जो 2014 में मेडिकल काउंसिल ने बंद कर दिया था. इस ग्रुप पर आरोप है कि इसने J&K बैंक समेत दूसरे बैंको से मेडिकल कॉलेज और होटल के रखरखाव के नाम पर पैसा लिया और करोड़ो की धोखाधड़ी की.  

इनकम टैक्स की छापेमारी में पता चला कि ग्रुप ने बैंको से करीब 200 करोड़ रुपये का बैंक लोन लिया, जोकि बाद में NPA बन गया. इतना ही नहीं जांच में ये भी पता चला कि 74 करोड़ रुपये की धांधली की. जांच में ये भी पता चला कि 125 करोड़ रुपये को इस ग्रुप ने फर्जी कंपनियों के जरिये Round Tripping की और 125 करोड़ रुपये वापिस लोन के नाम पर ग्रुप और करीबी लोगों  के पास वापिस आ गया. 

ग्रुप ने पैसों के गबन के लिये जम्मू कश्मीर में एक होटल की जमीन अपने ही परिवार के आदमी को 35 लाख मे बेचना दिखाया और कागजो में फर्जी नाम से 1 लाख रुपये महीने किराया भी दिखाया. जांच में पता चला कि ये सब पैसा वापस ग्रुप की दूसरी कंपनियों के जरिये वापस लाया गया. इसी तरह J&K बैंक से 60 लाख लोन लेने के लिये बैंक से मिलीभगत करके बताया कि मुंबई में 60 कमरो का होटल बन रहा है और उसके बनते ही पैसा वापस कर दिया जायेगा लेकिन असल में ऐसा कुछ नहीं था. जांच में पाया गया कि मुंबई में अभी भी वो होटल अंडर कस्ट्रक्शन है और कहीं से भी 60 कमरों का नही है जैसा कि बताया गया. 

पैसों के गबन के लिये ग्रुप ने मैनपॉवर के इस्तेमाल के फर्जी बिल बनाये और काफी सारे फर्जी चेक भी इश्यू किये गये. इतना ही नहीं इस ग्रुप ने पंजाब में बने मेडिकल कॉलेज में तीन बैच लिये लेकिन उनकी फीस को टैक्स रिर्टन में नहीं दिखाया गया. इनकम टैक्स को जांच में ग्रुप के पास 1.28 करोड़ का कैश और ज्वैलरी भी मिली.