हैदराबाद LIVE : गैंगरेप-मर्डर केस के चारों आरोपियों का एनकाउंटर, पढ़ें अभी तक की सारी अपडेट

Hyderabad Gang Rape and Murder Case : साइबराबाद के पुलिस कमिश्‍नर वीसी सज्‍जनार ने जी न्‍यूज से खास बातचीत में बताया कि इस एनकाउंटर में आरोपियों ने पुलिसवालों से हथियार छीनकर पुलिसवालों पर भी हमला किया, जिसमें दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. इन पुलिसकर्मियों की हालत स्थिर है. 

हैदराबाद LIVE : गैंगरेप-मर्डर केस के चारों आरोपियों का एनकाउंटर, पढ़ें अभी तक की सारी अपडेट
जिस जगह गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया था, पुलिस ने उसी जगह आरोपियों को एनकाउंटर में मार गिराया.

हैदराबाद : (Hyderabad Gang Rape and Murder Case) हैदराबाद (Hyderabad) में महिला डॉक्‍टर से गैंगरेप (Gang Rape) करने के बाद उसकी जलाकर हत्‍या करने वाले चारों आरोपियों को स्‍थानीय पुलिस ने शुक्रवार तड़के एनकाउंटर में मार गिराया. चारों आरोपियों को जांच के हिस्से के रूप में क्राइम सीन रिक्रिएट करने के लिए मौका ए वारदात पर ले जाया गया था, लेकिन यहां से इन्‍होंने भागने की कोशिश की. इसके बाद पुलिस ने इन्‍हें मुठभेड़ में मार गिराया. बताया जा रहा है कि आरोपियों ने पुलिस पर हमला करने की कोशिश की थी, जिसके बाद पुलिस ने आत्‍मरक्षा में इन्‍हें मार गिराया. 

दोपहर 3.15 बजे : इस मुठभेड़ के बारे में मीडिया में जानकारी देते हुए साइबराबाद के पुलिस कमिश्‍नर वीसी सज्‍जनार ने बताया कि घटना के बाद जांच में साइंटिफिक एविडेंस भी जुटाए गए थे, जिनके बाद आरोपियों को पकड़ा गया. इन्‍हें पुलिस हिरासत में भेजे जाने पर उनसे पूछताछ की गई. आरोपियों ने बताया था कि उन्‍होंने मौका ए वारदात के आसपास पर पीडि़ता का मोबाइल और अन्‍य सामान छिपाया गया था, इसलिए इन्‍हें लाया गया. जब सभी को यहां लाया गया और मौके पर ले जाया गया. आरोपियों ने पत्‍थर और डंडों से पुलिस पर हमला कर दिया और मोहम्मद आरिफ (26) और चिंताकुंटा चेन्नाकेशवुलु (20) ने पुलिस से हथियार छीन लिए और पुलिस टीम पर हमला कर दिया. सबसे पहले पुलिस पर हमला आरिफ ने किया, फिर चिंताकुंटा चेन्नाकेशवुलु ने. उन्‍होंने बताया कि आरोपियों से पुलिस ने सरेंडर करने को कहा गया. इसके बाद भी वे नहीं माने तो उन्‍हें मुठभेड़ में मार गिराया गया. चारों बुलेट इंजरी से मारे गए. आरिफ के पास पुलिस हथियार भी बरामद किया गया है. उन्‍होंने बताया कि यह पूरी घटना सुबह 5.45 से 6.15 के बीच हुई. पुलिस कमिश्‍नर वीसी सज्‍जनार ने बताया कि पीडिता के साथ-साथ आरोपियों की भी DNA जांच कराई गई है. मीडिया द्वारा पूछे जाने पर उन्‍होंने कहा कि करीब 10 पुलिसकर्मी आरोपियों को लेकर घटनास्‍थल पर लेकर गए थे, जबकि बाकी गाडि़यों में बैठे थे. उन्‍होंने मीडिया से भी कहा कि कृपया पुलिसवालों पर किसी भी तरह के आरोप न लगाए जाएं.पुलिस कमिश्‍नर ने एसआई वेंकटेश्‍वर और एक अन्‍य कॉस्‍टेबल गोली लगने से जख्‍मी हुए हैं. उन्‍हें उपचार के लिए अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है. इस बाबत आर्म्‍स एक्‍ट के तहत केस दर्ज किया जा रहा है. उन्‍होंने कहा कि हम तेलंगाना और आसपास के राज्‍यों में यह भी पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि कहीं उनके यहां भी तो किसी से रेप के बाद पीडि़ता को जलाने जैसी वारदात तो नहीं हुई. पता कर रहे हैं कि तेलंगाना में ऐसे घटनाएं भी कहीं पर हुई हैं या नहीं.

दोपहर 2.55 बजे : साइबराबाद के पुलिस कमिश्‍नर वीसी सज्‍जनार ने जी न्‍यूज से खास बातचीत में बताया कि इस एनकाउंटर में आरोपियों ने पुलिसवालों से हथियार छीनकर पुलिसवालों पर भी हमला किया, जिसमें दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. इन पुलिसकर्मियों की हालत स्थिर है. उन्‍होंने जी न्‍यूज को बताया कि शुक्रवार सुबह करीब पौने 6 बजे इन आरोपियों को घटनास्‍थल पर लाया गया था. इनसे यहां लाकर पूछा गया कि पीडि़ता दिशा का मोबाइल, डाटा बैंक और घड़ी इन्‍होंने कहां छिपाया था. इसके बाद उन्‍होंने थोड़ी दूरी पर इशारा किया और कुछ पुलिसकर्मी इनके साथ गए. जैसे इन्‍हें करीब 200 मीटर दूर ले जाया गया, तो इन्‍होंने पुलिसकर्मियों के हथियार छीनकर पुलिस टीम पर हमला कर दिया, जिसमें दो पुलिसवाले घायल हो गए और भागने लगे. इसके बाद पुलिस टीम ने एनकाउंटर में इन्‍हें मार गिराया. 

दोपहर 2.13 बजे : हिसार: राह ग्रुप फाउंडेशन के चेयरमैन नरेश सेलपार ने कहा है कि "हम सराहना करते हैं कि हैदराबाद पुलिस ने (तेलंगाना एनकाउंटर) किया है. मैं मुठभेड़ में शामिल सभी पुलिस कर्मियों को 1 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा करता हूं"

 

दोपहर 1.42 बजे : तेलंगाना एनकाउंटर पर कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि हैदराबाद में क्या हुआ, मुझे इसके बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है. एक जिम्मेदार व्यक्ति के नाते मैं बस इतना ही कह सकता हूं कि इसकी पूरी जांच होनी चाहिए, यह पता लगाने के लिए कि क्या यह एक वास्तविक एनकाउंटर था वे भागने की कोशिश कर रहे थे या यह कुछ और था.

दोपहर 1.26 बजे : तेलंगाना मुठभेड़ पर कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई ने कहा कि यह गलत है और इसका समर्थन नहीं किया जा सकता है. पुलिस अपने हाथों में कानून ले रही है और इसका मजाक नहीं बनाया जा सकता है. पूछताछ की जानी चाहिए. सिर्फ इसलिए कि कुछ लोग एनकाउंटर का समर्थन कर रहे हैं, यह सही नहीं है.

 

दोपहर 1.14 बजे : हैदराबाद पुलिस मौके पर मौजूद है. अभी तक आरोपियों के शव मौके पर मौजूद हैं. थोड़ी देर में उन्‍हें पोस्‍टमॉर्टम के लिए मॉर्चरी भेजा जाएगा.

दोपहर 12.14 बजे : निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने कहा,  एक मां, एक बेटी और एक पत्नी होने के नाते, मैं इसका (तेलंगाना एनकाउंटर) स्वागत करती हूं, वरना वे वर्षों तक जेल में रहते. निर्भया का नाम भी निर्भया नहीं था, लोगों ने नाम दिया है. मुझे लगता है कि नाम देने की बजाय इन्‍हें ऐसा अंजाम देना जरूरी है.

 

दोपहर 12.03 बजे : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सांसद कानुमुरु रघु राम कृष्ण राजू ने एनकाउंटर पर कहा कि कहा कि वे गोली मारे जाने के लायक थे. भगवान बहुत दयालु है कि उन्हें गोली मार दी गई. यह एक अच्छा सबक है. उन्होंने भागने की कोशिश की और वे मारे गए. किसी भी एनजीओ को इसका विरोध नहीं करना चाहिए और यदि वे ऐसा करते हैं, तो वे राष्ट्र-विरोधी हैं.

 

 

सुबह 11.45 बजे : भाजपा सांसद ने कहा कि जो हुआ बहुत भयानक हुआ है देश के लिए. आप कानून को अपने हाथ में नहीं ले सकते. कानून में वैसे भी उनको फांसी मिलती. अगर पहले ही उन्‍हें बंदूक से मार देंगे तो फिर अदालत और पुलिस का फायदा क्‍या है. फिर तो बंदूक उठाओ और जिसको भी मारना है मार दो. जो होना चाहिए था कानूनी तौर पर होना चाहिए था.

 

सुबह 11.45 बजे : हैदराबाद एनकाउंटर पर योग गुरु स्‍वामी रामदेव ने कहा कि 'पुलिस ने जो किया है वह बहुत ही साहसपूर्ण है और मुझे कहना होगा कि न्याय दिया गया है. इस पर कानूनी सवाल अलग बात है, लेकिन मुझे यकीन है कि देश के लोग अब शांति पर हैं'.

 

 

सुबह 11.32 बजे : दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जिस तरह से लोगों ने आपराधिक न्याय प्रणाली में अपना विश्वास खो दिया है, उसके बारे में चिंतित होना भी जरूरी है. आपराधिक न्याय प्रणाली को मजबूत करने के लिए सभी सरकारों को एक साथ मिलकर कार्रवाई करनी होगी.

 

सुबह 11.10 बजे : हैदराबाद गैंगरेप और हत्‍या के आरोपियों के एनकाउंटर पर छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि जब एक अपराधी भागने की कोशिश करता है, तो पुलिस के पास कोई अन्य विकल्प नहीं बचता. यह कहा जा सकता है कि न्याय किया गया है.

 

 

सुबह 11.07 बजे : समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्‍चन ने आरोपियों के एनकाउंटर पर मीडिया को अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 'देर आए, दुरुस्‍त आए'.

 

सुबह 10.47 बजे : हैदराबाद घटना की पीडि़ता की पड़ोसी महिलाओं ने पुलिसकर्मियों के हाथों पर राखी भी बांधी. 

सुबह 10.39 बजे : एनकाउंटर की जगह पर मौजूद भीड़ ने पुलिसकर्मियों को उठाकर अपनी खुशी का इजहार किया.

सुबह 10.34 बजे : आरोपियों का पुलिस द्वारा एनकाउंटर किए जाने के बाद पीड़िता के पड़ोसियों ने अपनी खुशी का इजहार किया और पुलिसकर्मियों को मिठाई खिलाई और तेलंगाना पुलिस जिंदाबाद के नारे भी लगाए.

 

सुबह 9.43 बजे : इस घटना पर राष्‍ट्रीय महिला आयोग की अध्‍यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि हमने हमेशा ऐसे अपराधियों के लिए मृत्युदंड की मांग की है और यहां पुलिस सबसे अच्छी जज है. मुझे नहीं पता कि यह किन परिस्थितियों में हुआ.

सुबह 9.40 बजे : एनकाउंटर स्‍थल पर भारी स्‍थानीय पुलिसबल तैनात था. इस दौरान वहां कई वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी भी मौजूद रहे.

सुबह 9.30 बजे : इस घटना के आरोपियों के एनकाउंटर में मारे जाने पर बीएसपी प्रमुख मायावती (mayawati) ने कहा है कि यूपी पुलिस और दिल्ली पुलिस को हैदराबाद पुलिस से प्रेरणा लेनी चाहिए. पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं लेकिन राज्य सरकार सो रही है.

 

 

सुबह 9.17 बजे :  इस घटना के बाद घटनास्‍थल पर स्‍थानीय लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई. घटना के बाद घटनास्‍थल पर मौजूद भीड़ ने हैदराबाद पुलिस जिंदाबाद के नारे भी लगाए. यहां लोगों ने पुलिस पर फूल भी बरसाए.

 

सुबह 9.17 बजे : शमशाबाद के डीसीपी प्रकाश रेड्डी ने कहा कि साइबराबाद पुलिस घटनाक्रम को समझने के लिए आरोपियों को मौका ए वारदात पर ले जाया गया था. आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीन लिए और पुलिस पर फायर किया. जिसके बाद सेल्‍फ डिफेंस में पुलिस ने जवाबी फायरिंग की, जिसमें आरोपी मारे गए.

सुबह 8.40 बजे :आरोपियों के एनकाउंटर (encounter) में मारे जाने पर पीड़िता के पिता ने खुशी जताई है. पीड़िता के पिता ने कहा है कि अब उनकी बेटी की आत्मा को शांति मिली है. पीड़िता के पिता ने कहा, मेरी बेटी को गए हुए 10 दिन हो चुके हैं. मैं पुलिस और सरकार को इसके लिए आभार जताता हूं. मेरी बेटी की आत्मा को अब जरूर शांति मिली होगी. वहीं, पीड़िता की बहन ने कहा कि मैं तेलंगाना पुलिस, तेलंगाना सरकार और मीडिया को धन्‍यवाद देती हूं.

सुबह 8.38 बजे : आरोपियों के एनकाउंटर की खबर सामने आने के बाद हैदराबाद में सुबह जब स्‍कूली छात्राएं बस के जरिये अपने स्‍कूल जा रही थीं, तब उन्‍होंने खुशी से चिल्‍लाकर इस घटना पर अपनी प्रतिक्रिया दी. इस दौरान वहां मौजूद भीड़ मोबाइल से उनका वीडियो बना रही थी. लड़कियां वहां मौजूद पुलिस को देखकर अपनी खुशी इजहार कर रही थीं.

सुबह 8.37 बजे : साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनर ने बताया कि आरोपी मोहम्मद आरिफ, नवीन, शिवा और चेन्नेकशवुलु आज तड़के 3 बजे से 6 बजे के बीच चटानपल्ली, शादनगर में पुलिस मुठभेड़ में मारे गए. मैं घटनास्थल पर पहुंचा हूं और जल्‍द ही आगे की जानकारी का खुलासा किया जाएगा. 

सुबह 8.15  बजे : तेलंगाना की डॉक्‍टर के गैंगरेप-मर्डर (Telangana Gang Rape and Murder Case) के आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराने पर प्रतिक्रिया देते हुए निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि जिस तरह तेलंगाना के मामले में पुलिस ने न्‍याय किया उसी तरह निर्भया के दोषियों को भी सजा मिलनी चाहिए. उन्‍होंने कहा कि उनकी बेटी निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा सुप्रीम कोर्ट ने दी है लेकिन अभी तक उनको फांसी के फंदे पर नहीं लटकाया गया. हमको अभी तक न्‍याय नहीं मिला है लेकिन जिस तरह तेलंगाना पुलिस ने काम किया, उसी तरह निर्भया के दोषियों को फांसी देकर बेटी को न्‍याय देना चाहिए. ZEE NEWS से खास बातचीत करते हुए निर्भया की मां ने ये बात कही.

 

ये भी पढ़ें- हैदराबाद की निर्भया: पीड़िता के पिता ने बताई दोषियों को क्या सजा मिले

 

 

लाइव टीवी...

ताल ठोक के: जब महिलाएं सुरक्षित नहीं तो समाज कैसे होगा सुरक्षित?

उल्‍लेखनीय है कि तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के बाहरी इलाके शमशाबाद में पिछले हफ्ते 27 वर्षीय पशु चिकित्सक युवती के साथ चार ट्रक ड्राइवरों और क्लीनर ने सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसे जलाकर मार देने की वीभत्‍य घटना को अंजाम दिया था. इस केस की त्वरित सुनवाई के लिए राज्य सरकार ने बुधवार को विशेष अदालत गठित करने का आदेश दिया था. सरकार ने सुझाया कि महबूबनगर अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत को विशेष अदालत में बदलकर मामले की त्वरित सुनवाई की जाए.

सरकार ने यह आदेश तब दिया, जब उच्च न्यायालय ने विशेष अदालत के लिए विधि सचिव द्वारा भेजा गया प्रस्ताव स्वीकार कर लिया. विशेष अदालत महबूबनगर में इसलिए बनाई गई, क्योंकि मामला पास के शादनगर थाने में दर्ज है. मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने मामले की जल्द सुनवाई और दोषियों को कड़ी सजा दिलाने की पहल करने का अधिकारियों को निर्देश दिया था.