जम्‍मू-कश्‍मीर में फिर पुलवामा जैसे बड़े आतंकी हमले की फिराक में जैश-ए-मोहम्‍मद : सूत्र

सूत्रों के अनुसार आतंकियों की ओर से कार को फिदायीन हमले के लिए तैयार भी कर लिया गया है.

जम्‍मू-कश्‍मीर में फिर पुलवामा जैसे बड़े आतंकी हमले की फिराक में जैश-ए-मोहम्‍मद : सूत्र
14 फरवरी को पुलवामा में हुआ था आतंकी हमला.

नई दिल्‍ली : जम्‍मू और कश्‍मीर में आतंकी पुलवामा जैसे एक और बड़े हमले की फिराक में हैं. यह बात सूत्रों के मुताबिक खुफिया एजेंसियों के अलर्ट में सामने आई है. खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा बलों को अलर्ट जारी करके कहा है कि पुलवामा आतंकी हमले को अंजाम देने वाला आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद एक बार फिर राज्‍य में बड़े हमले की फिराक में है. यह हमला चौकीबल और तंगधार के बीच में होने की आशंका जताई गई है. आतंकी फिर से कार के जरिये सुरक्षा बलों के काफिले को निशाना बना सकते हैं.

 

खुफिया एजेंसियों के अलर्ट के मुताबिक जैश के आतंकी अगले दो दिनों में चौकीबल और तंगधार के आसपास के मार्गों में सुरक्षा बलों के काफिलों को निशाना बना सकते हैं. साथ ही इस बार हमले में हरे रंग की स्‍कॉर्पियो कार के इस्‍तेमाल किए जाने की भी खुफिया जानकारी मिली है. एजेंसी के अनुसार आतंकियों की ओर से कार को फिदायीन हमले के लिए तैयार भी कर लिया गया है. 

खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा बलों को फिर सतर्क किया है कि एक संदेश डिकोड किया गया है. उससे पता चला है कि पुलवामा हमले की तरह एक और हमले की योजना जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकी बना रहे हैं. इस इनपुट की जानकारी सभी सुरक्षा बलों को दी गई है.


14 फरवरी को कार सुरक्षा बलों पर हुआ था फिदायीन हमला. फाइल फोटो

इनपुट में बताया गया है कि आने वाले दिनों में उतरी कश्मीर के सीमवर्ती जिले कुपवाड़ा के चौकीबल और तंगधार रास्ते पर एक IED हमले की योजना बनाई जा रही है. सूत्रों के मुताबिक़ एजेंसियों ने जैश से जुड़े सोशल मीडिया पर एक संदेश को डिकोड किया है. इसमें कहा गया है कि यह कुछ किलोग्राम का 'खिलौना'. 'खिलौने' को विस्फोटक बताया गया है, अब 500 किलोग्राम विस्फोट के लिए तैयार रहें. 

सूत्रों के मुताबिक संदेश में कहा गया है कि और हमले होंगे, अगर सुरक्षाबलों ने कश्मीरियों को निशाना बनाना बंद नहीं किया. “लड़ाई तुम्हारे और हमारे बीच है. आओ और लड़ो हम तैयार हैं. यह सिर्फ शुरुआत है." इनपुट के अनुसार यह जानकारी भी है कि आतंकियों के ट्रेंड ग्रुप उतरी कश्मीर से घुसपैठ करने के लिए तैयार है जो गुरेज से आ सकते है.

बता दें कि पुलवामा में 14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्‍मद ने कार के जरिये सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाया था. इसमें 40 जवान शहीद हुए थे. इसके बाद 18 फरवरी को पिंगलीना इलाके में आतंकियों से हुई मुठभेड़ में सेना मेजर समेत 4 जवान शहीद हुए थे. इस मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने पुलवामा आतंकी हमले के मास्‍टरमाइंड आतंकी अब्दुल गाजी, जैश का कमांडर कामरान मारा गया था.