close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डॉक्टरों की हड़ताल मामले में गृह मंत्रालय ने बंगाल सरकार से मांगी रिपोर्ट

दिल्ली में आज भी AIIMS समेत 18 से ज्यादा बड़े अस्पतालों के लगभग 10 हजार डॉक्टरों ने हड़ताल का ऐलान किया है.

अंतिम अपडेट: शनिवार जून 15, 2019 - 03:30 PM IST

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल के समर्थन में आज भी देशभर के अस्पतालों के डॉक्टरों की हड़ताल जारी है. पश्चिम बंगाल, बिहार, दिल्ली, मुंबई हर जगह डॉक्टर्स पश्चिम बंगाल मामले पर आवाज उठाने के लिए सड़कों पर उतर आए हैं. वहीं, दिल्ली में आज भी AIIMS समेत 18 से ज्यादा बड़े अस्पतालों के लगभग 10 हजार डॉक्टरों ने हड़ताल का ऐलान किया है. डॉक्टर्स असोसिएशन ने कहा है कि हम पश्चिम बंगाल सरकार को हड़ताली डॉक्टरों की मांगों पूरा करने के लिए 48 घंटे का अल्टीमेटम दे रहे हैं. अगर सरकार नाकाम रहती है तो हमें एम्स में अनिश्चितकालीन हड़ताल करने पर मजबूर होना पड़ेगा. NRS अस्पताल में डॉक्टर के ऊपर हुए हमले के बाद घायल डॉक्टर के परिजनों ने कहा कि मुख्यमंत्री को अस्पताल आना चाहिए था. हालांकि उन्होंने कहा कि प्रशासन की ओर से हर संभव सहायता करने का आश्वासन दिया गया है. परिजनों ने कहा कि इस तरह की यह कोई पहली घटना नहीं है, राज्य में 200 से ज्यादा ऐसी घटनाएं हुई हैं. 

 

15 जून 2019, 15:30 बजे

गृह मंत्रालय ने एडवाइजरी में लिखा है, "मंत्रालय ने डॉक्टरों, स्वास्थ्य विशेषज्ञों और मेडिकल संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की है. ये लोग देश के अलग-अलग हिस्सों से आए थे और अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित थे. पश्चिम बंगाल सरकार से इस बावत अपील की जाती है कि डॉक्टरों के हड़ताल पर एक विस्तृत रिपोर्ट जल्द से जल्द भेजी जाए."

15 जून 2019, 15:30 बजे

पश्चिम बंगाल में जारी डॉक्टरों की हड़ताल के बीच केंद्र सरकार हरकत में आया है.केंद्र ने राज्य सरकार को एडवाइजरी जारी करते हुए तुरंत एक रिपोर्ट तलब की है. 

15 जून 2019, 14:17 बजे

NRS अस्पताल में डॉक्टर के ऊपर हुए हमले के बाद घायल डॉक्टर के परिजनों ने कहा कि मुख्यमंत्री को अस्पताल आना चाहिए था. हालांकि उन्होंने कहा कि प्रशासन की ओर से हर संभव सहायता करने का आश्वासन दिया गया है. परिजनों ने कहा कि इस तरह की यह कोई पहली घटना नहीं है, राज्य में 200 से ज्यादा ऐसी घटनाएं हुई हैं. 

15 जून 2019, 12:55 बजे

इंडियन मेडिकल ऐसोसिएशन ने पश्चिम बंगाल में आंदोलनरत डॉक्टरों के प्रति एकजुटता जताते हुए 17 जून को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है.

15 जून 2019, 12:52 बजे

दिल्ली स्थित राम मनोहर लोहिया अस्पताल, दिल्ली के चिकित्सा अधीक्षक वीके तिवारी ने कहा, 'रेजिडेंट डॉक्टर आज हड़ताल पर हैं. उन्होंने ओपीडी और वार्डों में काम बंद कर दिया है, हालांकि आपातकालीन सेवाएं सामान्य रूप से चल रही हैं. हम पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा की घटना की निंदा करते हैं.'

15 जून 2019, 11:46 बजे

IMA के प्रतिनिधिमंडल ने स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से की मुलाकात

 

15 जून 2019, 11:14 बजे

एम्स रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह मल्ही ने कहा है कि सभी रेजिडेंट डॉक्टर काम पर वापस आ गए हैं, लेकिन हम काले बैज, पट्टियाँ और हेलमेट पहनकर सांकेतिक विरोध जारी रखेंगे.

 

15 जून 2019, 10:46 बजे

हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टरों ने कहा कि वे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा राज्य सचिवालय में शनिवार शाम बुलायी गई बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे.

15 जून 2019, 10:32 बजे

देश के 19 राज्यों के डॉक्टरों ने एक साथ मिलकर 17 को पैन इंडिया स्ट्राइक की घोषणा की है और इसकी जानकारी सभी ने अपने-अपने राज्यों को दे दी है.

15 जून 2019, 10:26 बजे

हड़ताल के कारण मरीजों और उनके तिमारदारों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि अस्पतालों में आपातकालीन सेवाएं जारी हैं. मरीजों का कहना है कि डॉक्टरों की हड़ताल के कारण ओपीडी बंद है, जिससे काफी फर्क पड़ रहा है.

15 जून 2019, 10:24 बजे

बंगाल के डॉक्टरों को देशभर के अस्पतालों का समर्थनदिल्ली के एम्स, सफदरजंग अस्पताल, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन, यूनाइटेड रेजिडेंट एंड डॉक्टर्स एसोसिशन ऑफ इंडिया (यूआरडीए) और फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (एफओआरडीए) ने डॉक्टरों को सुरक्षा देने की मांग का समर्थन किया है. डॉक्टरों के इन संगठनों ने हर्षवर्धन को पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ हुई हिंसा को लेकर ज्ञापन दिया है.

15 जून 2019, 10:22 बजे

कोलकाता में घायल डाक्टर से मिले राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी

15 जून 2019, 10:21 बजे

पश्चिम बंगाल में अब तक 800 डॉक्टरों ने इस्तीफा दिया है.

15 जून 2019, 10:20 बजे

एम्स के एक वरिष्ठ डॉक्टर के मुताबिक एम्स में शुक्रवार को लगभग 645 छोटी और बड़ी सर्जरी होनी थीं. हड़ताल की वजह से इमरजेंसी को छोड़कर अधिकतर सर्जरी रद्द हो गईं. एम्स की तरह की देश के कई अस्पतालों में मरीजों का यही हाल है. मरीज बिना इलाज के तड़प रहे हैं और डॉक्टर हड़ताल में लगे हुए हैं. 

 

15 जून 2019, 10:19 बजे

डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से हिंदुस्तान के कई हिस्सों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई है. पश्चिम बंगाल में कई जगहों पर लोगों को इलाज न मिलने से कई तरह की परेशानी हो रही है.