मैं मौत से नहीं, बल्कि मौत मुझसे डरती है, मुझे रोकने की हिम्मत किसी में नहीं है : ममता बनर्जी

उन्‍होंने कहा कि मैं 7 दिन का वक्‍त देती हूं जिसे जहां जाना है चला जाए, पार्टी पवित्र हो जाएगी.

मैं मौत से नहीं, बल्कि मौत मुझसे डरती है, मुझे रोकने की हिम्मत किसी में नहीं है : ममता बनर्जी
ममता बनर्जी ने दी प्रतिक्रिया. फोटो ANI

नई दिल्‍ली : पश्चिम बंगाल समेत देश के अन्‍य हिस्‍सों में जारी डॉक्‍टरों की हड़ताल के बीच शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने फिर प्रतिक्रिया दी है. ममता बनर्जी ने उत्‍तर 24 परगना में कहा है कि मैं मौत से नहीं, बल्कि मौत मुझसे डरती है, मुझे रोकने की हिम्मत किसी में नहीं है.

ममता बनर्जी ने आगे कहा कि मैं बिहार, यूपी, पंजाब जाती हूं तो हिंदी में बात करती हूं, क्‍योंकि राष्ट्रीय भाषा हिंदी है. लेकिन जब आप बंगाल आएं तो यहां आपको बांग्‍ला बोलनी पड़ेगी. चुनाव के बाद ही राज्य में हिंसा हुई है. हम बंगाल को गुजरात नहीं बनने देंगे. बंगाल में हिंसा फैलाने की कोशिश की जा रही है. क्यों अल्पसंखयको के ऊपर हमला हो रहा है. उन्‍होंने कहा कि बंगाल में गुंडागर्दी का कोई स्थान नहीं है. 

 

ममता बनर्जी ने इस दौरान कहा कि कुछ अशुभ शक्तियों की नजर बंगाल पर है. क्यों आम आदमी मार खा रहा है. बंगाल का विकास करना होगा. हमें ईवीएम नहीं चाहिए, बैलट चाहिए. इसके लिए 21 जुलाई को आंदोलन होगा.

ममता ने कहा कि बंगाल में रहकर बंगालियों को डराएंगे? मैं यह बर्दाश्त नहीं करूंगी. मुझसे क्यों इतना डरते हैं? हमारी लड़ाई गणतंत्र की लड़ाई है. पुलिस अगर काम नहीं करेगी तो जनता कहा जाएगी? फायदा उठाने के लिए सब पार्टी बदल रहे हैं.  कैसे माकपा का वोट बीजेपी को मिल गया? माकपा ने अपना साइन बोर्ड खुद ही तैयार किया है.

उन्‍होंने कहा कि मुझे गालीगलौच करके कुछ नहीं मिलेगा. मुझे जितनी गालियां दोगे उतनी ही अधिक सीट हम जीतेंगे. ममता बनर्जी करोड़पति की बेटी नहीं है, इसीलिए मुझे गाली देना आसान है. मैं 7 दिन का वक्‍त देती हूं जिसे जहां जाना है चला जाए, पार्टी पवित्र हो जाएगी.