close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हेरिटेज टॉय ट्रेन को पहचान दिलाने हुई मैराथन, DHR का पूरा नाम तक नहीं बता पाए धावक

दार्जिलिंग रिहैबिलिटेशन सर्विस को ऑपरेटिव सोसाइटी के चेयरमैन अब्दुल्ला आज़मी ने बताया- हमारे बच्चे शहर के नामी स्कूलों में पढाई करते हैं, हेरिटेज के बारे में उन्हें उतना ज्ञान नहीं है.

हेरिटेज टॉय ट्रेन को पहचान दिलाने हुई मैराथन, DHR का पूरा नाम तक नहीं बता पाए धावक
सभी उम्र के लोगों ने इस आठ किलोमीटर लम्बे मैराथन में हिस्सा लिया (फोटो साभारः twitter)

सिलीगुड़ीः हेरिटेज टॉय ट्रेन को विश्व के दरबार में अपनी पहचान दिलाने के लिए एक मैराथन का आयोजन किया गया, लेकिन DHR का पूरा नाम क्या है ये किसी को नहीं पता. दार्जिलिंग रिहैबिलिटेशन सर्विस कोआपरेटिव सोसाइटी की तरफ से सिलीगुड़ी शहर और शहर के विभिन्न सरकारी , प्राइवेट स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे, शिक्षक, शिक्षिका समेत शहर के सभी उम्र के लोगों ने इस आठ किलोमीटर लम्बे मैराथन में हिस्सा लिया. दार्जिलिंग रिहैबिलिटेशन सर्विस को ऑपरेटिव सोसाइटी के चेयरमैन अब्दुल्ला आज़मी ने बताया- हमारे बच्चे शहर के नामी स्कूलों में पढाई करते हैं, हेरिटेज के बारे में उन्हें उतना ज्ञान नहीं है.

ये हैं भारत के 5 ऐसे बेहतरीन जगह, जहां गर्मी के दिनों में घूमना होगा मजेदार

इन्हें ये तक नहीं पता कि DHR का फुल फॉर्म क्या होता है, इसीलिए हेरिटेज को समझाने के लिए इस मैराथन का आयोजन किया गया. सिलीगुड़ी दार्जिलिंग मोड़ से इस मैराथन की शुरुवात हुई और सुकना रेल स्टेशन तक टॉय ट्रैन के साथ ही सभी ने दौड़ लगाई. इस ठंडी ठंडी सुबह में कोयले की इंजन से धुआं निकलने के साथ साथ और रेल की गति के साथ ताल में ताल मिलाते दिखे मैराथन में हिस्सा लेने वाले लोग और सभी के ज़ुबान पर एक ही बात , और ये की हेरिटेज की रक्षा के लिए इस मैराथन को सफल बनाना है.

दार्जिलिंग में माइनस में पहुंचा तापमान, जमकर बर्फबारी का लुत्फ ले रहे सैलानी

लेकिन कई लोगों को DHR का मतलब ही नहीं पता तो किसी ने बोला की हेरिटेज उनका गर्व है और चाहते हैं की सरकार इस हेरिटेज ट्रेन के लिए कुछ करें. इलाके के लोगों का कहना है की इनके बच्चे अच्छे स्कूल में पढ़ते हैं, अच्छी अंग्रेजी बोलते हैं  समाज की नज़रों में ये लोग स्मार्ट हैं, लेकिन जहां पर रहते हैं वहीं की हेरिटेज के बारे में इनको कुछ नहीं पता है इसीलिए इस मैराथन का आयोजन किया गया.