close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुंबई: फर्जी फिटनेस सर्टिफिकेट बनाकर LIC को चूना लगाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, डॉक्टर सहित दो गिरफ्तार

एलआईसी को मामले की जानकारी दे दी गई है. अब पुलिस की जांच इस तरफ चल रही है कि कितने लोगों ने नकली फिटनेस सर्टिफिकेट के जरिए एलआईसी से पॉलिसी खरीदी है. 

मुंबई: फर्जी फिटनेस सर्टिफिकेट बनाकर LIC को चूना लगाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, डॉक्टर सहित दो गिरफ्तार
प्रतीकात्मक फोटो.

मुंबई: मुंबई क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जिसके सदस्य एलआईसी पॉलिसी के लिए अयोग्य लोगों का फिटनेस सर्टिफिकेट बनाते थे. इस सर्टिफिकेट के जरिए अयोग्य शख्स को पॉलिसी दिलाने के लिए जाली फिटनेस सर्टिफिकेट मुहैया कराए जाते थे. जिसके जरिए आसानी से शख्स पॉलिसी खरीद सकता था. 

मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बीते मंगलवार को सांताक्रूज स्थित दत्तात्रेय नर्सिंग होम चलाने वाले डॉक्टर राकेश दुग्गल और उसके एक सहायक किशोर सकपाल को नकली फिटनेस सर्टिफिकेट बनाने के जुर्म में गिरफ्तार किया. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक ये लोग सालों से जाली फिटनेस सर्टिफिकेट बनाकर लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (LIC) को चूना लगा रहे थे. 

मुंबई क्राइम ब्रांच के डीसीपी अकबर पठान ने बताया कि क्राइम ब्रांच को सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली कि सांताक्रूज के वकोला स्थित दत्तात्रेय नर्सिंग होम में एलआईसी पॉलिसी के लिए फेक मेडिकल सर्टिफिकेट बनाने का गोरखधंधा चल रहा है. जिसके बाद पुलिस ने छापेमारी कर डॉक्टर और उसके असिस्टेंट को गिरफ्तार कर लिया. आरोपियों के पास से 14 डॉक्टरों और फेक मेडिकल सेंटरों के नाम पर बने रबर स्टैंप्स और कई बोगस सर्टिफिकेट भी बरामद हुए हैं. 

यह भी पढ़ें: थाईलैंड की अदालत में मुंबई क्राइम ब्रांच की 'जीत'

पुलिस के मुताबिक, एलआईसी को मामले की जानकारी दे दी गई है. अब पुलिस की जांच इस तरफ चल रही है कि इस फर्जीवाड़े के जरिए कितने लोगों ने नकली फिटनेस सर्टिफिकेट बनवाकर एलआईसी से पॉलिसी खरीदी है. 

पठान के मुताबिक, मामले में दोनों आरोपियों को गिरफ्तारी के बाद स्थानिक अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें 21 जनवरी तक के लिए पुलिस रिमांड में भेजा गया है. पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर मामले की छानबीन में जुट गई है. गिरोह में अन्य लोगों के शामिल होने की भी आशंका जताई जा रही है.