पंजाब महिला आयोग अध्यक्ष की शिकायत, हरियाणा में अपराधियों ने मारी उनकी कार को टक्कर

पंजाब महिला आयोग की प्रमुख मनीषा गुलाटी ने आरोप लगाया कि दो कारों में सवार कुछ लोगों ने हरियाणा में उनकी एसयूवी में टक्कर मारने की कोशिश की.

पंजाब महिला आयोग अध्यक्ष की शिकायत, हरियाणा में अपराधियों ने मारी उनकी कार को टक्कर
मनीषा गुलाटी ने आरोप लगाया कि उनकी कार को टक्कर मारा गया है. (फाइल फोटो)

चंडीगढ़ः पंजाब महिला आयोग की प्रमुख मनीषा गुलाटी ने बुधवार को आरोप लगाया कि दो कारों में सवार कुछ लोगों ने हरियाणा में सोनीपत और पानीपत के बीच कई बार उनकी एसयूवी में टक्कर मारने की कोशिश की. यह घटना तब हुई जब गुलाटी बुधवार को सुबह व्यस्त चंडीगढ़-अंबाला राजमार्ग पर दिल्ली से चंडीगढ़ जा रही थीं.

पुलिस ने बताया कि दो लोगों से पूछताछ की जा रही है और मामला 'रोड रेज' का लग रहा है. गुलाटी ने बताया कि वह टोयोटा फॉर्च्यूनर में सवार थीं जिसे उनका बेटा चला रहा था. पुलिस का सुरक्षा वाहन उनकी कार के आगे चल रहा था.

उन्होंने कहा, 'अचानक, दो कारों ने हमारे वाहन से आगे जाने की कोशिश की. मैंने अपने बेटे से उन्हें आगे जाने देने के लिए कहा लेकिन दोनों कारें सोनीपत और पानीपत के बीच हमारा पीछा करती रही.' 

पंजाब राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने बताया कि एक कार ने उनकी सुरक्षा में लगे वाहन को टक्कर मारने की कोशिश की और उसमें बैठे लोगों ने सुरक्षा कर्मियों से गाली गलौच भी की.

गुलाटी ने कहा, 'फिर एक अन्य कार ने हमारी एसयूवी को टक्कर मारने और उसे पलटाने की कोशिश की. इस बीच मैंने पानीपत के पुलिस अधीक्षक को फोन किया. दोनों कारों ने गति बढ़ा दी, हमारी एसयूवी ने उनका पीछा किया जबकि सुरक्षा वाहन थोड़ा और पीछे था लेकिन जैसे ही हम एक टोल नाका पर पहुंचे और पुलिस की गाड़ी वहां देखी तो हम शिकायत दर्ज कराने के लिए रुक गए.' 

गुलाटी ने कहा कि दोनों कारों में सवार लोग पुलिस वाहन को देखने के बाद मुड़ गए और फरार हो गए. पानीपत के पुलिस उपाधीक्षक सतीश कुमार ने बताया कि दो लोगों को हिरासत में लिया गया और उनसे पूछताछ की जा रही है.

उन्होंने कहा कि प्राथमिक जांच के आधार पर मामला ‘रोडरेज’ का लग रहा है. गुलाटी से यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी किसी से दुश्मनी है इस पर उन्होंने कहा, 'मेरी किसी के साथ कोई दुश्मनी नहीं है.' 

हालांकि उन्होंने कहा कि आयोग की अध्यक्ष होने के कारण वह अंतर जातीय विवाह से संबंधित कुछ 'हाई प्रोफाइल' मामलों की जांच कर रही है. गुलाटी ने कहा, 'इन दो मामलों में से एक में कुछ लोगों ने पहले मुझे और मेरे कर्मचारियों को धमकी दी थी.'