अब आसमान में चमकेंगे 'मिट्टी के सितारे', रियलिटी शो के जरिए पूरे होंगे सपने

गरीबी के चलते दबी प्रतिभाओं वाले मिट्टी के इन सितारों को आसान उड़ान देने की अगुवाई कर रही हैं महाराष्ट्र की मुख्यमंत्री की पत्नी अमृता फडणवीस

अब आसमान में चमकेंगे 'मिट्टी के सितारे', रियलिटी शो के जरिए पूरे होंगे सपने
मिट्टी के सितारे... ये एक मुहिम है उन गरीब बच्चों के लिए जिनमें प्रतिभा होने के बावजूद भी वे किसी मुकाम तक नही पहुंच पा रहे हैं

मुंबई: महाराष्ट्र के मिट्टी के सितारे अब चमकेंगे आसमान में और गरीबी के चलते दबी प्रतिभाओं वाले मिट्टी के इन सितारों को आसान उड़ान देने की अगुवाई कर रही हैं महाराष्ट्र की मुख्यमंत्री की पत्नी अमृता फडणवीस. अमृता फडणवीस खुद ही बहुमुखी प्रतिभा की धनी हैं. अमृता फडणवीस समाज सेविका, गायिका (सिंगर)  होने के साथ-साथ एक्सिस बैंक की वाइस प्रेसिडेंट भी हैं. अमृता सामाजिक कामों में काफी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेती रही हैं और अब उन्होंने ने एक नयी मुहीम शुरू की है ताकि देश के दबे-छुपे टैलेंट को एक मंच मिल सके.

एक रियलिटी शो है 'मिट्टी के सितारे'
मिट्टी के सितारे... ये एक मुहिम है उन गरीब बच्चों के लिए जिनमें प्रतिभा होने के बावजूद भी वे किसी मुकाम तक नही पहुंच पा रहे हैं. ये देश का पहला रियलिटी शो है जो गरीब बच्चों की संगीत प्रतिभा को निखारने का काम करेगी. इस रियलिटी शो में हिस्सा लेने वाले बच्चों की उम्र 7-15 साल के बीच होगी. ये सारा काम दिव्याज फाउंडेशन की तरफ से किया जाएगा. मुंबई के दादर इलाके में राज्य के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस, संगीतकार शंकर महादेवन, बीएमसी कमिश्नर अजोय मेहता और बिरला फाउंडेशन के नीरजा बिरला.

मुख्यमंत्री की पत्नी ने शुरू की मुहिम
इन सभी बड़ी शख्सियतों का एक स्थान पर जुटने का मतलब समाज के उन लोगों को आगे लाना है जिनमें प्रतिभा होने के बाद भी गरीबी और दूसरी परेशानियों के कारण आगे नहीं आ पा रहे हैं. इस मौके पर संगीतकार शंकर महादेवन ने अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि कैसे गरीबी में निकल कर इस मुकाम तक पहुंचने का सफर किन कठनाईयों से होकर गुजरा है. इस मुहिम के तहत शंकर महादेवन संगीत से जुडी चीजें उन बच्चों को मुहैया कराने मे मदद करेंगे जिनकी संगीत में रूचि है. नीरजा बिरला मिट्टी के सितारे की पार्टनर हैं. इनका जो मुख्य काम स्लम इलाकों में छुपी प्रतिभाओं को बाहर लाना और उनकी आर्थिक मदद करना. अजोय मेहता जो BMC कमिश्नर हैं ये बीएमसी के स्कूलों में पढ़ने बच्चों के अंदर छुपे टैलेंट को खोजना है. राज्य के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस ने मिट्टी के सितारे मुहिम रखी.

 

गरीब प्रतिभावान बच्चों को सही मुकाम दिलाने का है सपना: अमृता
अमृता फडणवीस का कहना है कि गरीब प्रतिभावान बच्चों को उनका सही मुकाम मिले यही उनका सपना है. अमृता फडणवीस ने कहा कि इन बच्चो में प्रतिभा है, लगन है और आसमान को छू लेने का जज्बा भी है लेकिन कुछ आर्थिक तो थोड़ी बहुत पारिवारिक समस्याओं के कारण ये बच्चे आगे नहीं बढ़ पाते हैं. इन बच्चो को उन्हीं परेशानियों से निकाल कर आगे की तरफ ले जाना है. यही कोशिश है मिट्टी के सितारों की.

10 हजार बच्चों के होंगे ऑडिशन, 30 बच्चे होंगे शॉर्टलिस्ट
इस प्रोजेक्ट के लिए महानगर पालिका के 1,187 स्कूलों से बच्चों को लिया जाएगा. जिसे बालीवुड गायक और संगीतकार शंकर महादेवन की संगीत एकादमी संगीत सिखाएगी. इस टैंलेट हंट की शुरुआत इसी महिने यानि फरवरी से होगी. इसमे 7-15 साल के बच्चों को लिया जाएगा. इसके 4 राउंड आडिशन भी होंगे. तकरीबन 10000 बच्चों के ऑडिशन लिए जाएंगे. हर स्कूल से 5 बच्चे होंगे. अंत में 30 बच्चों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा जिनकी ट्रेनिंग होगी और ट्रेंनिग के बाद ग्रैंड फिनाले होगा.