close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सांगली: बाढ़ के कहर से हिल गई 150 साल पुरानी सिटी लाइब्रेरी की दीवारें, 90 हजार किताबें भीगी

इस लाइब्रेरी की 90 हजार किताबे भीगने से करीब 1 करोड़ का नुकसान बताया जा रहा है. 

सांगली: बाढ़ के कहर से हिल गई 150 साल पुरानी सिटी लाइब्रेरी की दीवारें, 90 हजार किताबें भीगी

सांगली: सांगली की सिटी लाइब्रेरी में बाढ़ से बड़ा नुकसान हुआ है. सांगली के सिटी लाइब्रेरी 150 साल पुरानी है. इसमें 8 दिन तक बाढ़ का पानी था. 90 हजार किताबे इसमें  भीग गई है. इसमें पुराने उपन्यास भी भीग कर नष्ट हुए है. इस लाइब्रेरी की 90 हजार किताबे भीगने से करीब 1 करोड़ का नुकसान बताया जा रहा है. सांगली की राजावाडी चौक में सिटी लाइब्रेरी की यह 150 साल पुरानी इमारत है. बाढ़ का पानी घुसने से किताबे खराब हुई है, मराठी ,हिंदी अंग्रेजी भाषा की उपन्यास -किताबे  भीग गई है. सिटी लाइब्रेरी के परिसर में भीगे हुए किताबों के ढेर लगे है. 

महाराष्ट्र में बाढ़ से मरने वालों की संख्या 43 हुई
महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित सांगली, कोल्हापुर, सतारा , पुणे और सोलापुर में सबसे ज्यादा नुकसान. बाढ़ प्रभावित 584 गांवों से अब तक 474226 लोगों को निकालकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया. बाढ़ प्रभावितों के रहने के लिए 596 अस्थाई शिविर बनाए गए हैं. 

चायपान का कार्यक्रम रद्द
वहीं महाराष्ट्र के बाढ़ के हालात के बाद 14 अगस्त और 15 अगस्त को होने बाले सरकारी स्नेहभोजन और चायपान का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है. हर साल स्वतंत्रता दिवस के पूर्व संध्या पर 14 अगस्त को विदेशी महावाणिज्यदूत और अन्य अतिथियों के लिए स्नेहभोजन का आयोजन किया जाता है. इस साल बाढ के चलते उसे रद्द किया गया.