विजय माल्‍या ने निजी और पारिवारिक संपत्ति की जब्‍ती पर रोक की मांग की, SC में सुनवाई आज

पिछली सुनवाई में माल्या की ओर से पैरवी करने आए वरिष्ठ वकील फाली एस नरीमन ने कोर्ट से सुनवाई को टालने का आग्रह किया था. जिसके बाद कोर्ट ने मामले की सुनवाई शुक्रवार के लिए टाल दी थी.

विजय माल्‍या ने निजी और पारिवारिक संपत्ति की जब्‍ती पर रोक की मांग की, SC में सुनवाई आज
विजय माल्‍या की याचिका पर सुनवाई आज. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : निजी और पारिवारिक संपत्ति पर कार्रवाई के खिलाफ भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट आज सुनवाई करेगा. पिछली सुनवाई में माल्या की ओर से पैरवी करने आए वरिष्ठ वकील फाली एस नरीमन ने कोर्ट से सुनवाई को टालने का आग्रह किया था. जिसके बाद कोर्ट ने मामले की सुनवाई शुक्रवार के लिए टाल दी थी.दरअसल, माल्या ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर संपत्तियों पर कार्रवाई और जब्त करने की प्रक्रिया पर रोक लागने की मांग की है. 

विजय माल्या ने याचिका में कहा है कि सिर्फ किंगफिशर कंपनी से संबंधित संपत्ति ही जब्त की जाए और उसकी निजी और पारिवारिक संपत्ति को जब्त नहीं किया जा सकता. इससे पहले माल्या को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ा छटका लगा था. हाईकोर्ट ने उस अपील को खारिज कर दिया था, जिसमें उसने अपने और अपनी संपत्ति के खिलाफ कार्रवाई पर रोक की मांग की थी.  

देखें LIVE TV

याचिका में कहा था कि निचली अदालत और सरकारी जांच एजेंसियां उसकी संपत्ति के खिलाफ कार्रवाई (बेच) कर सकते हैं. इसपर रोक लगाई जाए. विजय माल्या चाहता था कि जब तक बॉम्बे हाईकोर्ट में उसे भगोड़ा आर्थिक अपराधी (FEO) को चैलेंज करने वाली याचिका पर सुनवाई पूरी नहीं हो जाती है, तब तक लोअर कोर्ट और सरकारी जांच एजेंसियां उसके खिलाफ कोई ऐसी-वैसी कार्रवाई नहीं करे. उसने खुद को आर्थिक भगोड़ा अपराधी घोषित करने को हाईकोर्ट में चैलेंज किया है. 

आपको बता दें कि PMLA (प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट) कोर्ट ने जनवरी महीने में माल्या को आर्थिक भगोड़ा घोषित किया है. उसने हाईकोर्ट में कहा कि मेरे खिलाफ यह आरोप असंवैधानिक है, इसलिए इसे हटाया जाए. माल्या पर बैंकों के 9 हजार करोड़ रुपये लेकर भागने का आरोप है. वह मार्च 2016 में ही लंदन भाग गया था. इससे पहले लंदन हाईकोर्ट से शराब कारोबारी विजय माल्या को राहत मिली थी. वहां माल्या को गृह विभाग द्वारा प्रत्यर्पण के आदेश के खिलाफ अपील की इजाजत मिल गई है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.