एक ऐसा शख्स जो शहीदों के परिवार को लिखता है खत, पुण्यतिथि में बनता है दुख का साथी

आमतौर पर ऐसा होता है कि जब कोई सैनिक शहीद होता है, तो उसे गिनती के दिन ही याद आते हैं और लोग उस वक्त आर्थिक सहायत भी कर लेते हैं. 

एक ऐसा शख्स जो शहीदों के परिवार को लिखता है खत, पुण्यतिथि में बनता है दुख का साथी
सूरत में 40 वर्षीय युवक इन शहीदों को हर रोज याद करता है और अपने परिवार के सदस्यों को एक पत्र भी लिखता है.

सूरत (चेतन पटेल) : जब भी सैनिकों और अर्धसैनिक बलों पर हमलों की घटनाएं होती हैं, तो देश के लोगों में देशभक्ति अचानक जागृत होती है. लेकिन कुछ दिनों के बाद, लोग सहानुभूति को भूल जाते हैं. जबकी सूरत में एक व्यक्ति है जो हर दिन इन शहीदों को याद करता है, न केवल याद करता है, बल्कि परिवार को पोस्टकार्ड लिखकर उनके हाल चाल भी पूछता है. इस व्यक्ति के पास अब तक शहीद हुए सभी सैनिकों का डेटा है. भले ही यह व्यक्ति सुरक्षा गार्ड की खातिर आर्थिक रूप से काम कर रहा है, लेकिन उसका दिल देश के लिए देशभक्ति और शहादत के योग्य है. उनकी देशभक्ति को उनके परिवार का युवा कहा जाता है.

आमतौर पर ऐसा होता है कि जब कोई सैनिक शहीद होता है, तो उसे गिनती के दिन ही याद आते हैं और लोग उस वक्त आर्थिक सहायत भी कर लेते हैं. हालांकि, इसके बाद वह इन शहीदों के परिवारों को भूल रहे हैं. कोई यह नहीं जानना चाहता कि वह क्या करता है, वह कैसे रहता है, उसका जीवन उसके बेटे के बिना कैसा चल रहा है. हालांकि, सूरत में 40 वर्षीय युवक इन शहीदों को हर रोज याद करता है और अपने परिवार के सदस्यों को एक पत्र भी लिखता है. राजस्थान के रहने वाले और अब सूरत में रहते जितेंद्र सिंह अपने परिवार के सदस्यों के लिए सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करते हैं. 1999 में वे राजस्थान में रहे. कारगिल युद्ध के दौरान कई शहीद हुए. तब उन्होंने मृतक जवान के घर जाते थे.

तब से, जितेंद्र सिंह ने शहीदों के परिजनों को पोस्टकार्ड लिखने के लिए फैसला किया था. जितेंद्र सिंह ने मृतक के परिजनों के पते खोजने शुरू कर दिए और उन्हें खत लिखने का प्रोसेस शुरू किया. धीरे-धीरे, उन्होंने 20 वर्षों के लिए 41 हजार शहीदों के परिवारों को एक पत्र लिखा है. 200 परिवार के सदस्य हैं जिनके घर जानने के लिए दूरी पूछने के लिए जा रहे हैं और वहां से शहीद सैनिक के माता-पिता की चरणों की मिटटी साथ में लेके आते हैं. वह गरीब है, कभी-कभी शहीदों के परिवार उसे पूर्णय  तिथी में अपने घर पर बुलाते हैं. हालांकि, उनके पास वहां जाने के लिए पैसे भी नहीं होते. एक बार जब उनके पास पैसे नहीं थे, तब भी वे शहीदों के परिवारों से मिलने के लिए बिना टिकट ट्रेन में बैठे. जहां टीटी को गिरफ्तार किया गया था, उसे एक दिन के लिए कैद किया गया था.