close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आतंकवाद मुद्दा नहीं तो राहुल गांधी को SPG सुरक्षा छोड़ देनी चाहिए: सुषमा स्वराज

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, 'मैं राहुल गांधी जी को कहना चाहती हूं, यदि आतंकवाद मुद्दा नहीं है और देश में कोई आतंकवाद नहीं है तो आप एसपीजी सुरक्षा के साथ क्यों घूमते हैं?’

आतंकवाद मुद्दा नहीं तो राहुल गांधी को SPG सुरक्षा छोड़ देनी चाहिए: सुषमा स्वराज
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि यूपीए सरकार को 2008 के मुम्बई आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए थी जिसमें 40 विदेशी नागरिकों सहित 166 लोग मारे गए थे. (फोटो साभार - PTI)

हैदराबाद: केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर उनके उस कथित टिप्पणी को लेकर निशाना साधा कि आतंकवाद कोई मुद्दा नहीं है और कहा कि यदि ऐसा है तो उन्हें अपनी एसपीजी सुरक्षा छोड़ देनी चाहिए.

सुषमा ने कहा,‘वह (राहुल गांधी) कहते हैं कि रोजगार एक मुद्दा है, आतंकवाद नहीं. मैं राहुल गांधी जी को कहना चाहती हूं, यदि आतंकवाद मुद्दा नहीं है और देश में कोई आतंकवाद नहीं है तो आप एसपीजी सुरक्षा के साथ क्यों घूमते हैं?’

उन्होंने कहा,‘(पूर्व प्रधानमंत्री एवं राहुल के पिता) राजीव गांधी की हत्या के बाद से अभी तक आपका पूरा परिवार एसपीजी सुरक्षा घेरे में है. यदि आप महसूस करते हैं कि आतंकवाद कोई मुद्दा नहीं है तो मैं आपसे कहना चाहती हूं, आप लिखकर दीजिये कि आपको एसपीजी सुरक्षा नहीं चाहिए क्योंकि आप महसूस करते हैं कि देश में कोई आतंकवाद नहीं है और आपको किसी से भय नहीं है.’

'विपक्षी दलों को पीएम पर विश्वास नहीं है' 
स्वराज ने यहां एक चुनावी सभा में पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी शिविरों पर हवाई हमलों का उल्लेख करते हुए कहा कि विपक्षी दलों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विश्वास नहीं है और वे पाकिस्तानी समकक्षों के बयानों को सही मान रहे हैं.

विदेश मंत्री ने कहा कि हवाई हमलों को अंतरराष्ट्रीय समर्थन मिला और उन्हें कई देशों के नेताओं की कॉल आईं जिसमें उन्होंने आतंकवाद पर भारत के रुख की प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि देश में विपक्षी दल फरवरी में जैशे मोहम्मद पर हवाई हमले के बीजेपी द्वारा श्रेय लेने पर आपत्ति जता रहे हैं. 

मुंबई हमलों के बाद यूपीए को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए थी
उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार को 2008 के मुम्बई आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए थी जिसमें 40 विदेशी नागरिकों सहित 166 लोग मारे गए थे.

स्वराज ने जनता के लिए राजग सरकार की पहलों का उल्लेख करते हुए कहा कि सत्ताधारी पार्टी का चुनावी मुद्दा तीन मुद्दों पर होगा...सुरक्षा, विकास और कल्याण. उन्होंने कहा कि फाइबर आप्टिक नेटवर्क में 1.16 लाख गांव जुड़ गए हैं. उन्होंने कहा,‘देश में मात्र 77 पासपोर्ट केंद्र थे जो अब बढ़कर 505 हो गए हैं और तेलंगाना में मात्र चार थे जो अब बढ़कर 19 हो गए हैं.’