ममता बनर्जी ने नहीं दी इजाजत तो झारखंड के रास्‍ते बंगाल पहुंचे सीएम योगी

यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ को लगातार दूसरी बार बंगाल में अपना हेलिकॉप्‍टर उतारने की इजाजत नहीं मिली. इसीलिए योगी इस बार झारखंड के रास्‍ते पश्‍च‍िम बंगाल के पुरुलिया पहुंच गए.

ममता बनर्जी ने नहीं दी इजाजत तो झारखंड के रास्‍ते बंगाल पहुंचे सीएम योगी

कोलकाता : पश्‍चि‍म बंगाल की मुख्‍यमंत्री और केंद्र सरकार की लड़ाई लगातार तीखी होती जा रही है. इसी का परिणाम है कि सीएम ममता बनर्जी का प्रशासन एक के बाद एक बीजेपी के नेताओं को पश्‍च‍िम बंगाल में उतरने की अनुमति नहीं दे रहा है. यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ को लगातार दूसरी बार बंगाल में अपना हेलिकॉप्‍टर उतारने की इजाजत नहीं मिली. इसीलिए योगी इस बार झारखंड के रास्‍ते पश्‍च‍िम बंगाल के पुरुलिया पहुंच गए. झारखंड में पहले योगी का चॉपर उतरा, उसके बाद वह बोकारो होते हुए पुरुलिया पहुंचे.

इस बीच रास्‍ते में उन्‍होंने एक बातचीत में कहा, पश्‍च‍िम बंगाल की ये सरकार अंसवैधानिक और अलोकतांत्र‍िक गतिविधियों में लगी हुई है. नहीं तो क्‍या कारण है कि मेरे जैसे एक संन्‍यासी या योगी को बंगाल की धरती पर उतरने नहीं दिया जा रहा है.

इससे पहले रव‍िवार को योगी की एक रैली बंगाल में होनी थी, लेक‍िन तब भी उनके चॉपर को उतरने की इजाजत नहीं दी गई. इसील‍िए बीजेपी ने योगी को बंगाल भेजने का ये प्‍लान बनाया. पुरुल‍िया पहुंचकर योगी को मुख्‍य निशाना ममता बनर्जी ही रहीं.

 यहां पहुंचकर सीएम योगी ने कहा, लोकतंत्र के लिए इससे ज्‍यादा कुछ शर्मनाक नहीं हो सकता कि एक मुख्‍यमंत्री ही धरने पर है.

सिर्फ भ्रष्ट अधिकारी को बचाने में है ममता की दिलचस्पी: योगी आदित्यनाथ
पुरुलिया (पश्चिम बंगाल): योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि वह बंगाल में गरीबों का शोषण कर रही हैं और शारदा चिटफंड घोटाले में कथित तौर पर शामिल एक ‘‘भ्रष्ट’’ अधिकारी को बचाने में दिलचस्पी ले रही हैं. पड़ोसी झारखंड के बोकारो तक विमान से आने के बाद सड़क मार्ग से पश्चिम बंगाल के पुरुलिया पहुंचे आदित्यनाथ ने कोर्ट के उस आदेश का भी जिक्र किया जिसमें कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को शारदा घोटाले की जांच में सहयोग करने को कहा गया है.

आदित्यनाथ ने सवाल किया कि ममता पुलिस अधिकारी को बचाने की कोशिश क्यों कर रही हैं. उन्होंने कहा, ‘‘आपने देखा होगा कि वह किस तरह एक भ्रष्ट अधिकारी को बचाने की कोशिश कर रही है. इससे ज्यादा शर्मनाक, अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक कुछ नहीं हो सकता कि किसी राज्य की मुख्यमंत्री यह सुनिश्चित करने के लिए धरना पर बैठी हो कि भ्रष्टाचार के राज बाहर न आ जाएं.’

राज्य की तृणमूल कांग्रेस सरकार को ‘‘भ्रष्ट एवं अलोकतांत्रिक’’ करार देते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि ममता सरकार राज्य के लोगों तक केंद्रीय योजनाओं का फायदा नहीं पहुंचने दे रहीं. इससे पहले, ममता ने कहा था कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को अपने राज्य पर ध्यान देना चाहिए.