close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नौसेना प्रमुख पद के लिए नजरअंदाज किये जाने पर ट्रिब्यूनल पहुंचे वाइस एडमिरल विमल वर्मा

वर्ष 2016 में सेना प्रमुख नियुक्त करते समय सरकार ने वरिष्ठता के साथ जाने की पुरानी परंपरा का पालन नहीं किया था.

नौसेना प्रमुख पद के लिए नजरअंदाज किये जाने पर ट्रिब्यूनल पहुंचे वाइस एडमिरल विमल वर्मा
फाइल फोटो- dna

नई दिल्लीः अंडमान एवं निकोबार कमान के कमांडर इन चीफ वाइस एडमिरल विमल वर्मा यह जानने की मांग के साथ सशस्त्र बल न्यायाधिकरण (एएफटी) पहुंचे कि ‘लाइन ऑफ कमान’ में वरिष्ठतम होने के बावजूद अगले नौसेना प्रमुख पद के लिए उन्हें नजरअंदाज क्यों किया गया. यह बात आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को कही. एएफटी को दी गई याचिका में वर्मा ने पूछा कि सरकार ने उनकी वरिष्ठता को नजरअंदाज करते हुए वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगला नौसेना प्रमुख नियुक्त क्यों किया.

उनकी याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होने की संभावना है. सरकार ने गत महीने वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगला नौसेना प्रमुख नामित किया था जो कि एडमिरल सुनील लांबा का स्थान लेंगे. एडमिरल लांबा 30 मई को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. सरकार ने यह चयन मेरिट आधारित रुख अपनाते हुए किया और पद पर वरिष्ठतम अधिकारी को नियुक्त करने की परंपरा का पालन नहीं किया.

वाइस एडमिरल वर्मा सिंह से वरिष्ठ हैं और वह शीर्ष पद के लिए दावेदारों में शामिल थे. सूत्रों ने कहा कि वर्मा के अलावा नौसेना प्रमुख के लिए अन्य दावेदारों में वाइस चीफ ऑफ नेवल स्टाफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार, पश्चिमी नौसेना कमान के एफओसी इन सी वाइस एडमिरल अजित कुमार और दक्षिणी नौसेना कमान के एफओसी इन सी वाइस एडमिरल अनिल कुमार चावला शामिल थे. 

वर्ष 2016 में सेना प्रमुख नियुक्त करते समय सरकार ने वरिष्ठता के साथ जाने की पुरानी परंपरा का पालन नहीं किया था.