भतीजे आकाश को BSP आंदोलन से जोड़ूंगी, मीडिया के विरोध की परवाह नहीं: मायावती

मायावती ने ख़ुद को बीएसपी के संस्थापक कांशीराम की शिष्या बताते हुए कहा,'मुझे मान्यवर कांशीराम के अंदाज में ही इसका मुंहतोड़ जवाब देना आता है.' 

भतीजे आकाश को BSP आंदोलन से जोड़ूंगी, मीडिया के विरोध की परवाह नहीं: मायावती
बीएसपी चीफ मायावती (फोटो साभार - ANI)

नई दिल्ली: दो दिनों से मीडिया में सुर्खिया बनने वाले आकाश को लेकर गुरुवार मायावती ने बड़ा ऐलान कर दिया. आकाश आनंद के बारें में मीडिया में चल रही खबरों पर मायावती ने कहा कि, 'आकाश को मेरे साथ कुछ कार्यक्रमों में दिखने पर मीडिया ने जिस तरह से निशाना बनाया है, वो बेहद शर्मनाक है. कुछ मीडिया के लोग संकीर्ण और जातिवादी मानसिकता पर उतर आए हैं. बीएसपी इसका मुंहतोड़ जवाब देगी.'

मायावती ने अपने को कांशीराम की शिष्या बताते हुए कहा, 'हम डरपोक नहीं हैं. हम मुंहतोड़ जवाब देना जानते हैं, मान्यवर कांशीराम की भी यही शैली रही है. जैसे को तैसा जवाब देने के लिए अब मैं आकाश को बीएसपी मूवमेंट से जोड़कर सीखने का मौका दूंगी'

मायावती के भाई के बेटे हैं आकाश
दरअसल, आकाश आनंद मायावती के भाई आनंद कुमार के बेटे है, और अपने माता-पिता के साथ दिल्ली में रहते है, लेकिन पीछले कुछ दिनों से वो मायावती के साथ दिखाई दे रहे थे. मायावती के जन्मदिन के मौके पर भतीजे आकाश प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उनके साथ हाल ही में मौजूद रहे. इसके बाद उनके साथ ही वह वहां से निकले. 

लगातार मायावती के साथ दिख रहे थे आकाश
एसपी मुखिया अखिलेश यादव जब मायावती के नौ माल एवेन्यू स्थित आवास पर मिलने पहुंचे, तब भी आकाश मौजूद रहे. इसके अलावा तेजस्वी यादव भी जब मायावती से मिलने पहुंचे थे तब भी तस्वीरों में मायावती के साथ आकाश दिखाई दे रहे थे. अमूमन बहुत कम मौके पर मायावती अपने पारिवार के किसी सदस्य को सार्वजनिक कार्यक्रम में रखती हैं. बताया जा रहा है कि मायावती 10 जनवरी को भीतीजे के साथ ही लखनऊ पहुंची थीं.

आकाश मायावती के साथ लगातार दिखाई दे रहे थे, लिहाजा कयास लगाए जाने लगे कि क्या मायावती काश को अपना उत्तराधिकारी बनायेंगी. कहा जाने लगा कि बुआ भतीजे को सियासत का ककहरा सिखा रही है.

'अगर मीडिया को आपत्ति है तो रहे' 
गुरुवार को मायावती ने इन तमाम आशंकाओं का जवाब दे दिया. मायावती ने कहा कि अगर मीडिया के जातिवादी और दलित विरोधी एक तबके को आपत्ति है तो रहे, हमारी पार्टी को इसकी चिंता नहीं है. मायावती ने कहा, 'मै कांशीराम की चेली हूं और उनकी तरह जैसे को तैसा जवाब देना जानती हूं.'  अभी तक आकाश पार्टी में गैर-राजनीतिक ढंग से कार्य करते थे लेकिन अब मैं उन्हें पार्टी के मूवमेंट में शामिल करुंगी और उन्हें सीखने का मौका दूंगी.'