यूपी में NDA से फिर खफा हुआ अपना दल, 28 को गठबंधन पर अहम फैसला

बैठक में इस बात पर निर्णय लिया जाएगा कि होने वाले लोकसभा चुनाव में पार्टी बीजेपी के साथ होगी या नहीं.

यूपी में NDA से फिर खफा हुआ अपना दल, 28 को गठबंधन पर अहम फैसला
अपना दल के अध्यक्ष आशीष पटेल की फाइल फोटो.

नई दिल्ली/लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजनीति में क्या सबकुछ ठीक चल रहा है. सवाल इसलिए क्योंकि यूपी में एनडीए में फिर तनातनी सामने आई है. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष और यूपी सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने बुधवार को दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की है. इन दोनों के बीच मुलाकात तो सकारात्मक रही है. इधर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने एक सहयोगी के साथ को बरकरार रखा. वहीं, अब अपना दल ने राज्य बीजेपी से जताई नाराजगी जताई है. 

अपना दल के अध्यक्ष आशीष पटेल ने 28 फरवरी को लखनऊ में पार्टी की बड़ी बैठक बुलाई है. बैठक में इस बात पर निर्णय लिया जाएगा कि होने वाले लोकसभा चुनाव में पार्टी बीजेपी के साथ होगी या नहीं. अपना दल (एस) अध्यक्ष आशीष पटेल ने ज़ी न्यूज से फोन पर हुई बातचीत में कहा कि हमने राज्य बीजेपी के कर्ता-धर्ताओं को 20 फरवरी तक पार्टी से संबंधित समस्याओं को दूर करने का अल्टीमेटम दिया था. उन्होंने कहा कि 20 फरवरी के डेडलाइन अब खत्म हो गई है और हमारे द्वारा की गई एक भी मांग पूरी नहीं है. उन्होंने कहा कि अब हम स्वतंत्र हैं. 

आशीष पटेल ने बातचीत में कहा कि हमने अब तक गठबंधन धर्म ईमानदारी से निभाया, बीजेपी पर विश्वास किया. लेकिन बीजेपी ने अब विश्वास को तोड़ दिया है. उन्होंने बताया कि अगले गुरुवार यानि 28 फरवरी के दिन अपना दल एक बैठक करेगी, जिसमें वह ये फैसलै लेंगे कि आगामी लोकसभा में एनडीए का हिस्सा बनना है कि नहीं. 

 

आपको बता दें कि बुधवार को गोंडा में अपना दल की राष्ट्रीय संरक्षक व केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल प्रदेश की योगी सरकार में पार्टी की भागीदारी न सुनिश्चित करने से खफा हैं. उन्होंने कहा कि अपना दल बीजेपी के साथ मजबूती से है और गठबंधन में पूरा सहयोग कर रही है. इसके बाद भी प्रदेश की योगी सरकार गठबंधन धर्म ईमानदारी से नहीं निभा रही है. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल गौरा विधानसभा क्षेत्र के कूकनगर ग्रंट में पटेल चौराहे पर मूर्ति अनावरण करने के लिए आई थीं.