close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव: धर्म और राष्ट्रवाद के नाम पर चुनाव जीतना चाहते हैं PM मोदी- अशोक गहलोत

गहलोत जयपुर से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति खंडेलवाल के समर्थन में एक सभा को संबोधित कर रहे थे.

लोकसभा चुनाव: धर्म और राष्ट्रवाद के नाम पर चुनाव जीतना चाहते हैं PM मोदी- अशोक गहलोत
गहलोत ने नोटबंदी की जांच की बात कही. (फाइल फोटो)

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना की उपलब्धि के पीछे छिपकर, धर्म और राष्ट्रवाद के नाम पर चुनाव जीतना चाहते हैं.

गहलोत ने कहा, ‘‘इंदिरा गांधी के जमाने में पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए गए पर उसके नाम पर राजनीति नहीं की गयी. इंदिरा गांधी ने कभी उस पर वोट नहीं मांगे, यह नहीं कहा कि मेरी यह बहुत बड़ी उपलब्धि है. यही कहा कि यह सेना की उपलब्धि है और हमें उस पर गर्व है.’’ 

गहलोत जयपुर से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति खंडेलवाल के समर्थन में एक सभा को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा, ‘‘ लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर चीज का श्रेय खुद लेना चाहते हैं.’ 

 

जमकर मोदी पर बरसे गहलोत
उन्होंने कहा कि मोदी सैनिकों की बहादुरी के पीछे छिपकर चुनाव जीतना चाहते हैं.‘‘ सर्जिकल स्ट्राइक की गयी ... हम सैनिकों को, उनकी बहादुरी को सलाम करते हैं लेकिन ये उसके नाम पर आज चुनाव जीतना चाहते हैं...आप (मोदी) धर्म के नाम पर, राष्ट्रवाद के नाम पर चुनाव जीतना चाहते हैं.’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के शासन में पूरे देश में भय का, आतंक का, हिंसा का माहौल हो गया है.

सरकार बनाने के बाद नोटबंदी की करेंगे जांच
गहलोत ने कहा कि केंद्र में संप्रग की सरकार आई तो ‘हम चाहेंगे कि नोटबंदी की यह जांच हो कि इसमें कितना बड़ा घोटाला हुआ है. पूरे देश को बर्बाद कर दिया, मजदूरों को घरों में बैठना पड़ गया, धंधे बंद हो गए, व्यापारियों के व्यापार चौपट हो गए. कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया.’

कहा मोदी है जुमलेबाज
गहलोत ने कहा ,‘ भाजपा के पास ट्रक भर - भर के पैसा जा रहा है उसके ऑफिस बन रहे हैं पूरे देश में. केवल उत्तर प्रदेश में ही उसके 56 ऑफिस बन गए. वह बताए कि इतना पैसा कहां से आ रहा है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मोदी के जुमले तो बहुत हो चुके हैं पर देश में लोकतंत्र और संविधान खतरे में है.’’