close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बॉक्सिंग के बाद अब बॉक्सर विजेंदर सिंह उतरे साउथ दिल्ली के चुनावी रिंग में...

विजेंदर सिंह मूलत: हरियाणा के रहने वाले है. उनका जन्म हरियाणा के कालूवास गांव में हुआ था. 

बॉक्सिंग के बाद अब बॉक्सर विजेंदर सिंह उतरे साउथ दिल्ली के चुनावी रिंग में...
विजेंदर की प्रारंभिक पढ़ाई उनके गांव में हुई थी.

नई दिल्ली: कांग्रेस ने बॉक्सर विजेंदर सिंह को दिल्ली की साउथ दिल्ली लोकसभा सीट के चुनावी मैदान में उतारा है. राजनीति में एंट्री के बाद विजेंदर ने कहा था कि 'मुक्केबाजी में अपने करियर के 20 से अधिक वर्षों में मैंने हमेशा अपने देश को रिंग में गौरवान्वित किया है. अब समय मेरे देशवासियों के लिए कुछ करने और उनकी सेवा करने का है. दक्षिण दिल्ली में विजेंदर का मुकाबला बीजेपी के रमेश बिधूड़ी और आम आदमी पार्टी के राघव चड्ढा से है.

कांग्रेस प्रत्याशी और ओलंपिक पदक विजेता विजेंदर सिंह की बात करें तो वह 2019 के लोकसभा चुनाव से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत कर रहे हैं. विजेंदर ने स्नातक किया है. विजेंद्र ने 2008 के बीजिंग ओलंपिक में देश के लिए कांस्य पदक जीता था. वहा भारत के पहले मुक्केबाज हैं जिन्होने ओलंपिक में पदक जीता. ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज बने विजेंदर पेशेवर सर्किट में भी एशिया पैसीफिक सुपर मिडिलवेट और ओरिएंटल मिडिलवेट खिताब अपने नाम कर चुके हैं. विजेंदर सिंह को 2010 में पद्म श्री से भी नवाजा जा चुका है.

विजेंदर सिंह मूलत: हरियाणा के रहने वाले है. उनका जन्म हरियाणा के कालूवास गांव में हुआ था. वह एक बहुत साधारण परिवार से ताल्लुक रखते है. विजेंदर सिंह के पिता पेशे से एक ड्राइवर थे जबकि उनकी मां एक गृहणी है. विजेंदर की प्रारंभिक पढ़ाई उनके गांव में हुई थी. जबकि आगे की स्कूली शिक्षा उन्होने भिवानी से पूरी की थी. विजेंदर के के बड़े भाई भी हैं जो भारतीय सेना में कार्यरत है.

साउथ दिल्ली लोकसभा सीट की बात करें तो यहां से 2014 के लोकसभा चुनाव में बिधुरी ने एक लाख से अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी. उन्होंने कर्नल देविंदर सेहरावत को हराया था. साउथ दिल्ली लोकसभा सीट में राजधानी के सबसे ज्यादा पॉश सीट मानी जाती है. दक्षिण दिल्ली संसदीय क्षेत्र में अंबेडकर नगर, संगम विहार, कालकाजी, तुगलकाबाद बिजवासन, पालम, महरौली, छतरपुर, देवली, और बदरपुर जैसे विधानसभा क्षेत्र आते हैं. 

इस सीट पर 20 लाख 65 हजार से अधिक मतदाता मताधिकार के माध्यम से अपना सांसद चुनेंगे. इस बार यहां से भाजपा ने जहां अपने मौजूदा सांसद रमेश बिधूड़ी को टिकट दिया है, वहीं, 'आप' ने राघव चड्ढा को मैदान उतारकर मुकाबले को कांटे का बना दिया है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव की बात करें तो इस लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद रमेश बिधूड़ी (भाजपा) को 4,97,980 वोट, देवेंद्र कुमार सहरावत (आप) को 3.90.980 वोट और रमेश कुमार (कांग्रेस) को 1,25,213 वोट मिले थे.