close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हिमाचल प्रदेश: पिता और बेटा बीजेपी छोड़ पहुंचे कांग्रेस में, कैबिनेट मंत्री अजय शर्मा धर्मसंकट में

लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर नेताओं का दलबदल जारी है. इसी कड़ी में हिमाचल प्रदेश में पूर्व केन्द्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम और उनके पौत्र आश्रय शर्मा सोमवार को राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बीजेपी से पाला बदलकर कांग्रेस में शामिल हो गए. सुखराम ने इसे अपनी 'घर वापसी' बताया. 

हिमाचल प्रदेश: पिता और बेटा बीजेपी छोड़ पहुंचे कांग्रेस में, कैबिनेट मंत्री अजय शर्मा धर्मसंकट में
अब सबसे बड़ा धर्मसंकट कैबिनेट मंत्री अजय शर्मा के सामने खड़ा हो गया है.

नई दिल्ली/शिमला: लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर नेताओं का दलबदल जारी है. इसी कड़ी में हिमाचल प्रदेश में पूर्व केन्द्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम और उनके पौत्र आश्रय शर्मा सोमवार को राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बीजेपी से पाला बदलकर कांग्रेस में शामिल हो गए. सुखराम ने इसे अपनी 'घर वापसी' बताया. अब सबसे बड़ा धर्मसंकट कैबिनेट मंत्री अजय शर्मा के सामने खड़ा हो गया है. अनिल शर्मा राज्य में 2012 से 2017 तक वीरभद्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार का हिस्सा रहे लेकिन पिछले राज्य विधानसभा चुनावों से पहले वह भाजपा में शामिल हो गए थे.

वह बीजेपी में रहे या न रहे, इस पर उन्हें फैसला लेना है. उधर, इस मसले पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती का कहना है कि यह अनिल शर्मा को निर्णय लेना है कि वह हिमाचल प्रदेश के मंत्रिमंडल में रहना चाहते हैं या नहीं. हालांकि सत्ती ने कहा, "परिवार का एक सदस्य एक पार्टी में जबकि दूसरा सदस्य दूसरी पार्टी में रह सकता है."

यह पूछे जाने पर सुखराम और आश्रय ने बीजेपी छोड़कर कांग्रेस ज्वॉइन कर ली है, इस पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, "केवल अनिल शर्मा ने बीजेपी ज्वॉइन की थी. जहां तक मेरी जानकारी है, सुखराम और आश्रय कभी पार्टी में शामिल नहीं हुए. इसलिए उनके बीजेपी छोड़ने का सवाल ही नहीं खड़ा होता."  

कांग्रेस में बुजुर्गों का सम्मान
कांग्रेस में शामिल होने के बाद सुखराम ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में बुजुर्गों का सम्मान है. उधर, पार्टी में स्वागत करते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, "हम सबके लिए हर्ष की बात है कि उत्तर भारत के कद्दावर के नेता पंडित सुखराम जी और उनके पौत्र कांग्रेस में फिर से शामिल हुए हैं. हिमाचल प्रदेश खासतौर पर मंडी के लिए सुखराम जी विकास पुरुष हैं." उन्होंने कहा कि पार्टी को विश्वास है कि सुखराम और आश्रय शर्मा के कांग्रेस में आने से पार्टी को हिमाचल प्रदेश और उत्तर भारत में बल मिलने वाला है. 

 

आश्रय शर्मा लड़ना चाहते हैं मंडी से चुनाव
हिमाचल प्रदेश में जयराम ठाकुर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री अनिल शर्मा के बेटे आश्रय शर्मा मंडी संसदीय सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं. बीजेपी द्वारा मंडी सीट से मौजूदा सांसद रामस्वरूप शर्मा को फिर से टिकट दिए जाने के बाद उन्होंने भाजपा छोड़ दी. मंडी हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का गृह जिला भी है. सुखराम का मंडी संसदीय क्षेत्र में काफी प्रभाव है जहां से वह तीन बार सांसद निर्वाचित हुए थे.