close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: बेहद दिलचस्प हो गई भद्रक सीट की लड़ाई

यहां से मौजूदा सांसद अर्जुन चरण सेठी बीजेडी छोड़ चुके हैं. उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया है और बीजेपी ने उनके बेटे अभिमन्यू सेठी को टिकट दिया है. 

लोकसभा चुनाव 2019: बेहद दिलचस्प हो गई भद्रक सीट की लड़ाई

नई दिल्ली: ओडिशा की भद्रक लोकसभा सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 के चौथ चरण में वोट डाले जाएंगे. इस सीट का चुनाव खासा दिलचस्प हो चला है. यहां से मौजूदा सांसद अर्जुन चरण सेठी बीजेडी छोड़ चुके हैं. उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया है और बीजेपी ने उनके बेटे अभिमन्यू सेठी को टिकट दिया है. 

चुनाव से ठीक पहले सेठी के बीजेपी में शामिल होने को बड़े घटनाक्रम के तौर पर देखा जा रहा है. अर्जुन चरण सेठी अलग-अलग पार्टियों के टिकट पर इस सीट से आठ बार चुनाव जीत चुके हैं. सेठी 1998 में यहां से बीजेडी के टिकट पर लड़े और फिर लगातार 2014 तक इस सीट पर बीजेडी प्रत्याशी के तौर पर जीत दर्ज करते रहे. 

बीजेडी ने इस बार यहां से मंजूलता मंडल को मैदान को टिकट दिया है जबकि कांग्रेस ने मधुमिता सेठी को टिकट दिया है. 

क्या रहा है इस सीट का राजनीतिक इतिहास?
भद्रक सीट पर आज तक बीजेपी को कामयाबी नहीं मिल सकी है. 1951, 57 और 1962 में इस पर कांग्रेस ने जीत हासिल की. 1967 में यह सीट कांग्रेस के हाथ से निकल गई और स्वतंत्र पार्टी ने यहां जीत दर्ज की. 
 
1971 में अर्जुन चरण सेठी यहां से कांग्रेस के टिकट पर जीते. 1977 में यहां से जनता पार्टी के बैरागी जेना को सफलता हाथ लगी. 1980 और 1984 के चुनावों में इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा. दोनों ही बार अर्जुन सेठी यहां से जीते. 1989 में यहां से जनता दल को जीत हासिल हुई. 1991 में एक बार फिर अर्जुन सेठी मैदान में थे लेकिन इस बार जनता दल के प्रत्याशी के तौर पर. इस बार भी उनको जीत मिली. 1996 में लंबे समय बाद यहां से कांग्रेस को कामयाबी हासिल हुई. 1998 में यहां से अर्जुन सेठी बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर मैदान में और फिर 1999, 2004, 2009, 2014 में इस सीट पर जीतते रहे