close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मोदी सुनामी में भी सबसे ज्यादा फायदे में रही यह पार्टी, फिर से हासिल कर रही सियासी जमीन

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok sabha election 2019) के नतीजे आज देर शाम तक आ जाएंगे. अब तक हुई वोटों की गिनती (Lok sabha election results 2019) से साफ हो चुका है केंद्र में एक बार फिर से मोदी सरकार बन रही है.

मोदी सुनामी में भी सबसे ज्यादा फायदे में रही यह पार्टी, फिर से हासिल कर रही सियासी जमीन

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 (Lok sabha election 2019) के नतीजे आज देर शाम तक आ जाएंगे. अब तक हुई वोटों की गिनती (Lok sabha election results 2019) से साफ हो चुका है केंद्र में एक बार फिर से मोदी सरकार बन रही है. जनता ने पीएम मोदी के नेतृत्व में भरोसा जताया है और इस बार उन्हें आवाम ने 2014 से भी बड़ी जीत से नवाजा है. बीजेपी 300 सीटों पर बढ़त के साथ फिर से अपने दम पर सरकार बनाती नजर आ रही है. बीजेपी नेतृत्व वाला एनडीए इस बार 350 से ज्यादा सीटें हासिल कर रहा है.

विपक्ष की दौड़ से बाहर हो सकती है कांग्रेस
देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी इंडियन नेशनल कांग्रेस एक बार फिर विपक्ष की दौड़ से बाहर होती दिखाई दे रही है. लोकसभा चुनाव 2014 में 44 सीटें जीतने वाली कांग्रेस के इस बार 50 सीट तक पहुंचने की उम्मीद है. दोहपर तक आए रुझान में कांग्रेस 50 सीटों पर बढ़त बनाए दिख रही है. इस चुनाव में विरोधियों के सारे समीकरण ध्वस्त हो गए यूपी का सपा-बसपा-रालोद गठबधंन भी बहुत बड़ा कमाल नहीं दिखा सका.

2014 में गंवा दी थी सियासी जमीन
लोकसभा चुनाव 2019 में चली पीएम मोदी की सुनामी के बीच सबसे ज्यादा फायदा हुआ बसपा सुप्रीमो मायावती को. साल 2014 में अपनी सियासी जमीन गंवा चुकी मायावती इस बार सपा की बैसाखी के सहारे दहाई अंक में लोकसभा की सीटें जीत सकती हैं. 2014 के आम चुनाव में यूपी की एक भी सीट पर जीत दर्ज नहीं करने वाली मायावती की पार्टी इस बार 12 सीट पर चुनाव जीत सकती है. अभी तक के चुनावी रुझान में बसपा के 12 प्रत्याशी बढ़त बनाए हुए हैं. चुनावी दिग्गजों का कहना है कि यह फायदा उन्हें अखिलेश यादव के साथ आने से मिला है.

सपा पुराने नंबर पर ही कायम
दूसरी तरफ बसपा के साथ गठबंधन कर केंद्र सरकार के गठन में निर्णायक भूमिका निभाने का ख्वाब संजो रहे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को इस चुनाव में भी जनता ने नकार दिया है. पिछले लोकसभा चुनाव में 5 सीटों पर सिमटने वाली सपा इस बार पुराने नंबर तक भी मुश्किल ही पहुंच पा रही है. अभी तक के आंकड़ें में समाजवादी पार्टी 5 सीटों पर ही बढ़त बनाए हुए हैं. शाम तक थोड़ा भी फेर-बदल हुआ तो सपा पुराने नंबर से भी नीचे जा सकती है. अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल तक अपनी सीट बचाने में कामयाब नहीं लग रहीं.

इन सीटों पर बसपा प्रत्याशियों ने बना रखी है बढ़त

1. अंबेडकर नगर----------रितेश पांडेय
2. अमरोहा---------------कुंवर दानिश अली
3. बिजनौर-------------मलूक नागर
4. गाजीपुर-----------------अफजाल अंसारी
5. घोसी-------------------अतुल कुमार सिंह
6. जौनपुर-----------------श्याम सिंह यादव
7. लालगंज-----------------संगीता आजाद
8. मछलीशहर---------------त्रिभुवनराम
9. मेरठ------------------हाजी मोहम्मद याकूब
10. नगीना------------------गिरीश चंद्रा
11. सहारनपुर------------------हाजी फजर्लुर रहमान
12. श्रावस्ती-------------राम शिरोमणी