भोंगीर लोकसभा सीट: क्या टीआरएस से कांग्रेस छीन पाएगी यह सीट, फैसला 23 मई को

तेलंगाना राज्य की सभी 17 सीटों पर पहले चरण यानी 11 अप्रैल को वोटिंग हो चुकी है. अब 23 मई को आने वाले चुनावी रिजल्ट में प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला हो जाएगा.

भोंगीर लोकसभा सीट: क्या टीआरएस से कांग्रेस छीन पाएगी यह सीट, फैसला 23 मई को
टीआरएस के प्रमुख और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव. (फाइल फोटो)

भोंगीर. तेलंगाना की भोंगीर (Bhongir) लोकसभा सीट से कांग्रेस पार्टी ने कोमाती रेड्डी वेंकट रेड्डी, सीपीआई ने गोडा श्रीरामुलु, तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) ने डॉ. बूरा नरसैया, भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने पीवी श्याम सुंदर राव पर दांव लगाया है. इस लोकसभा सीट पर पहले चरण की वोटिंग में 68.25 फीसदी वोट पड़े. अब 23 मई को आने वाले चुनावी रिजल्ट में इन प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला हो जाएगा.

तेलंगाना राज्य की सभी 17 सीटों पर पहले चरण यानी 11 अप्रैल को वोटिंग हो चुकी है. 10 मार्च को लोकसभा चुनावों की घोषणा के बाद 18 मार्च को यहां नोटिफिकेशन निकाला गया और 25 मार्च को नॉमिनेशन की अंतिम तारीख घोषित की गई. इसके बाद 26 मार्च को प्रत्याशियों के नामों पर अंतिम मुहर लगाई गई और 11 अप्रैल को वोटिंग हुई.

16वीं लोकसभा के लिए भोंगीर से टीआरएस नेता बूरा नरसैया (Burra Narsaiah) चुनकर संसद पहुंचे थे. पार्टी ने एक बार फिर उन पर ही भरोसा जताया है. पिछले आम चुनाव में नरसैया ने कांग्रेस के राज गोपाल रेड्डी को मात दी थी.

2014 के आम चुनाव में नरसैया को मतदान के 36.99 फीसदी यानी 4,48,245 वोट मिले थे. उनके मुकाबले राज गोपाल रेड्डी को 34.47 प्रतिशत यानी 4,17,751 वोट हासिल हुए. तीसरे नंबर पर रहे इंद्रसेना रेड्डी को 15.12 प्रतिशत (1,83,217) वोट मिले थे.  

2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई यह सीट तेलंगाना के रंगारेड्डी, नलगोंडा और वारंगल जिलों के दायरे में आती है. इस सीट पर अब तक सिर्फ दो बार लोकसभा चुनाव हुए हैं. 2019 में तीसरी बार यहां आम चुनाव हो रहे हैं. 2009 के आम चुनाव में यहां से कांग्रेस के कोमाती राज गोपाल रेड्डी जीते और 2014 में टीआरएस के नरसैया विजयी रहे.

पता हो कि भारत के आंध्रप्रदेश राज्य से अलग होकर तेलंगाना भारत का 29वां राज्य बना था. दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी हैदराबाद है. राज्य में मुख्यमंत्री के. चन्द्रशेखर राव की अगुवाई में टीआरएस पार्टी की सरकार है. इस राज्य में 119 विधानसभा सीटें और 17 लोकसभा सीटें हैं. वहीं प्रदेश में कुल जिलों की संख्या 31 है.