close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ सकती हैं प्रियंका गांधी- सूत्र

उन्‍होंने अपनी तरफ से इस बारे में हां कह दी है, लेकिन बारे में अंतिम फैसला पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी को लेना है. 

पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ सकती हैं प्रियंका गांधी- सूत्र
सूत्र बता रहे हैं कि प्रियंका गांधी खुद बनारस से चुनाव लड़ने को लेकर गंभीरता से विचार कर रही हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली/लखनऊ : कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ सकती हैं. सूत्रों के हवाले से यह जानकारी मिली है. सूत्र बता रहे हैं कि प्रियंका गांधी खुद बनारस से चुनाव लड़ने को लेकर गंभीरता से विचार कर रही हैं. उन्‍होंने अपनी तरफ से इस बारे में हां कह दी है, लेकिन बारे में अंतिम फैसला पार्टी अध्‍यक्ष राहुल गांधी को लेना है. 

दरअसल, पार्टी में महासचिव का पद पाने और पूर्वी उत्‍तर प्रदेश का प्रभार अपने कंधों पर आने के बाद से प्रियंका गांधी राजनीतिक रूप से काफी सक्रिय तौर पर काम रही हैं. वह कांग्रेस के लिए उत्‍तर प्रदेश में लगातार प्रचार भी कर रही हैं. 


कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का फाइल फोटो..

उल्‍लेखनीय है कि बीते माह रायबरेली में जब एक कार्यकर्ता ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से रायबरेली से चुनाव लड़ने को कहा था तो उन्‍होंने जवाब दिया था कि वाराणसी से क्यों नहीं? हालांकि प्रियंका गांधी ने यह जवाब हल्के-फुल्के में अंदाज में दिया था, लेकिन उसके बाद से ही इस बात के कयास लगाए जाने से शुरू हो गए थे कि क्या सच में प्रियंका गांधी सचमुच वाराणसी में पीएम मोदी को चुनौती देने की तैयारी कर रही हैं. 

बीते 29 मार्च को ही कांग्रेस महासचिव व पार्टी की पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश-विदेश तो खूब घूमे, लेकिन आज तक अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के किसी भी गांव में नहीं गए. उन्हें जब गांवों के बारे में पता ही नहीं है तो उनका विकास कैसे करेंगे.

प्रियंका ने अयोध्या के आदिलपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था, "पीएम मोदी ने पांच सालों में सिर्फ झूठ बोला है. नौजवान बेरोजगार घूम रहा है. उन्हें नौजवानों की फिक्र नहीं है. प्रधानमंत्री के पास गरीबों के लिए समय नहीं है. भाजपा सरकार, जनविरोधी व किसान विरोधी है. इस सरकार में जनता की सुनवाई नहीं हो रही है."

उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री देश-विदेश तो खूब घूमे हैं, लेकिन आज तक वह अपने संसदीय क्षेत्र के एक भी गांव में नहीं गए. उन्होंने कभी किसी गरीब को गले नहीं लगाया है."