close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: फिरोजपुर से सुखबीर सिंह को उनके करीबी शेर सिंह ही दे रहे हैं टक्कर

5 बार पंजाब के मुख्यमंत्री रह चुके प्रकाश सिंह बादल के पुत्र सुखबीर सिंह पंजाब की सियासत में एक बड़ा नाम हैं. 

लोकसभा चुनाव 2019: फिरोजपुर से सुखबीर सिंह को उनके करीबी शेर सिंह ही दे रहे हैं टक्कर
फाइल फोटो

फिरोजपुर: भारत और पाक की सीमा पर स्थित फिरोजपुर जिला सिर्फ वाघा बॉर्डर ही नहीं बल्कि भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की समाधी स्थल होने के कारण भी देश-दुनिया में विशेष पहचान रखता है. 2019 के लोकसभा चुनावों में यह जिला पंजाब की सबसे रोचक सियासी लड़ाई का गवाह बना हुआ है. 

दरअसल, शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल 15 साल बाद यहां से एक बार फिर केंद्र की राजनीति में दस्तक देने की कोशिशों में जुटे हैं. वहीं उन्हें यहां शेर सिंह घुबाया चुनौती दे रहे हैं जो पिछले साल तक उनके बेहद करीबी थी. वह यहां कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. 

5 बार पंजाब के मुख्यमंत्री रह चुके प्रकाश सिंह बादल के पुत्र सुखबीर सिंह पंजाब की सियासत में एक बड़ा नाम हैं. वह 2016 में उस वक्त सुर्खियों में आए थे जब पंजाब में नशे से हो रही मौतों को लेकर उन्होंने बीएसएफ के खिलाफ धरना-प्रदर्शन किया गया था. उस वक्त सुखबीर सिंह ने आरोप लगाया था कि नशे का सामान सीमापार से पंजाब में आता है. बता दें, सुखबीर सिंह ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत 1996 में की थी. 

सुखबीर सिंह ने अपना पहला चुनाव फरीदकोट से लड़ा था और जीता भी था. जिसके बाद उन्होंने दूसरी बार भी इसी सीट से चुनाव जीता था. वह साल 2000 में राज्य की राजनीति में भी सक्रिय हो गए और दो बार पंजाब के उपमुख्यमंत्री बने.