श्रीपेरम्बुदूर सीट पर इस बार द्रमुक और अन्नाद्रमुक के बीच कांटे की टक्कर

तमिलनाडु की श्रीपेरूम्बुदूर (Sriperumbudur) लोकसभा सीट पर फिलहाल अन्नाद्रमुक के केएन रामाचंद्रन सांसद हैं. द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट पर द्रमुक और अन्नाद्रमुक के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही है.

श्रीपेरम्बुदूर सीट पर इस बार द्रमुक और अन्नाद्रमुक के बीच कांटे की टक्कर

तमिलनाडु की श्रीपेरूम्बुदूर (Sriperumbudur) लोकसभा सीट पर फिलहाल अन्नाद्रमुक के केएन रामाचंद्रन सांसद हैं. द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट पर द्रमुक और अन्नाद्रमुक के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही है. श्रीपेरूम्बुदूर सीट पर पहली बार हुए चुनाव में पी. शिवशंकरण ने जीत दर्ज की थी और वह लगातार दो बार सांसद बने थे. वर्ष 1999 और 2004 में हुए चुनाव में डीएमके के ए कृष्णास्वामी ने लोकसभा का सफर तय किया था. साल 2009 में यहां से टीआर बालू और 2014 में केएन रामाचंद्रन इस सीट से सांसद बने.

कुल 12 बार लोकसभा चुनाव हुए
श्रीपेरूम्बुदूर सीट पर अब तक कुल 12 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं. इसमें से 6 बार डीएमके उम्मीदवार, 3 बार अन्नाद्रमुक और 3 बार इंडियन नेशनल कांग्रेस के उम्मीदवार को सफलता मिली है. यह तमिलनाडु की सबसे बड़ी संसदीय सीटों में से एक है. कांचीपुरम जिले के अंतर्गत आने वाली इस सीट को पहले बूंदीपुरी के नाम से जाना जाता था. साल 2014 के चुनाव के अनुसार यहां पर कुल 19,46,503 मतदाता हैं. इनमें से 9,82,862 पुरुष और 9,63,641 महिला मतदाता हैं.

श्रीपेरूम्बुदूर लोकसभा सीट के अंतर्गत छह विधानसभा आती हैं. ये मदुरावोयाल (Maduravoyal), अंबात्तुर (Ambattur), अलान्दुर (Alandur), श्रीपेरूम्बुदूर (Sriperumbudur), पल्लवराम (Pallavaram) और तांबरम (Tambaram) हैं.