close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव: यूपी की एकमात्र सीट जहां पिछले 28 साल से काबिज है BJP

लोकसभा चुनाव 2019 में उत्तर प्रदेश की जंग रोचक हो गई है. वैसे तो बीजेपी कई सीटों पर मजबूत है लेकिन एक लोकसभा सीट ऐसी भी जिस पर पार्टी का पिछले 28 साल से कब्जा है. 

लोकसभा चुनाव: यूपी की एकमात्र सीट जहां पिछले 28 साल से काबिज है BJP
बीजेपी 2014 के मैजिक को दोहराना चाहती है.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 में उत्तर प्रदेश की जंग रोचक हो गई है. बीजेपी 2014 के मैजिक को दोहराना चाहती है. 2014 में बीजेपी ने बीजेपी ने अपने दम पर 71 सीटों पर जीत हासिल की थी. दो सीटों पर अपना दल के प्रत्याशी विजयी हुए थे. वैसे तो बीजेपी कई सीटों पर मजबूत है लेकिन एक लोकसभा सीट ऐसी भी जिस पर पार्टी का पिछले 28 साल से कब्जा है. यह सीट है लखनऊ लोकसभा सीट. गोरखपुर, वाराणसी, बुलंदशहर लोकसभा क्षेत्र भी बीजेपी का गढ़ हैं.

लखनऊ में 1991 से खिल रहा कमल
नवाबों के शहर लखनऊ में 1991 से कमल खिल रहा है. चुनाव आए और गए लेकिन जीत बीजेपी के खाते में ही गई. इस सीट पर कांग्रेस ने अंतिम बार 1994 में जीत हासिल की थी. इसके बाद से उसे जीत का इंतजार है. लोकसभा चुनाव के इतिहास पर और गौर करें तो पाएंगे कि कांग्रेस ने 1967 के चुनाव में पहली बार यह सीट गंवाई. आनंद नारायण ने 1967 में यह जीट कांग्रेस से छीनी थी. वह निर्दलीय प्रत्याशी थे. बाद में  पूर्व केंद्रीय मंत्री शीला कौल 1980, 1984 में दो बार यहां से निर्वाचित हुईं.   
 
1991 से 2004 तक जीते बाजपेयी  
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने पहली बार 1991 में इस सीट से चुनाव लड़ा. इसके बाद यह उनकी परंपरागत सीट बन गई. 1991 से 2004 तक लगातार पांच बार लखनऊ की जनता का बाजपेयी जी को आशीर्वाद मिला. 1991 के बाद 1996, 1998, 1999 और 2004 के लोकसभा चुनाव में बाजपेयी जी इस सीट से जीते. कांग्रेस को हर बार निराशा हाथ लगी. 1996 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने बाजपेयी के सामने फिल्म अभिनेता राज बब्बर को उतारा लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा. 

 

2009 में लालजी टंडन को मिली जीत
2004 के बाद बाजपेयी जी ने सक्रिय राजनीति में संन्यास ले लिया. 2009 के लोकसभा चुनाव में लाल जी टंडन को इस सीट पर बीजेपी की जीत का सिलसिला जारी रखने का मौका मिला. टंडन के सामने कांग्रेस ने डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को उतारा लेकिन उन्हें जीत नसीब नहीं हुई. जोशी अब कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में है. बीजेपी ने उन्हें 2019 के लोकसभा चुनाव में इलाबाबाद से टिकट दिया है.  

2014 में राजनाथ सिंह ने जारी रखा जीत का सिलसिला
2014 के चुनाव में मोदी लहर के दौरान बीजेपी ने इस सीट पर पूर्व बीजेपी अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह को उतारा. कांग्रेस ने एक बार फिर से डॉ. रीता बहुगुणा जोशी पर भरोसा जताते हुए उन्हें मैदान में उतारा. राजनाथ ने करीब 3 लाख वोट से जीत हासिल की. अब यह सीट उनकी परंपरागत सीट बनती जा रही है क्योंकि 2019 के चुनाव में वह फिर से इस सीट से मैदान में हैं.