close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग सीट से महबूबा मुफ्ती को मिली हार

राज्य का सबसे बड़ा उलटफेर अनंतनाग सीट पर देखने को मिला जहां नेशनल कांफ्रेंस उम्मीदवार और उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश हसनैन मसूदी ने पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा को मात दी.

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग सीट से महबूबा मुफ्ती को मिली हार
महबूबा को केवल 30 हजार 500 वोट मिले.

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जम्मू कश्मीर की तीन लोकसभा सीटें बरकरार रखती हुई नजर आ रही है जबकि पीडीपी प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को अपने गढ़ अनंतनाग सीट में हार का सामना करना पड़ा. इस राज्य से जीतने वाले प्रमुख चेहरों में नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला और केन्द्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह शामिल हैं.

राज्य का सबसे बड़ा उलटफेर अनंतनाग सीट पर देखने को मिला जहां नेशनल कांफ्रेंस उम्मीदवार और उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश हसनैन मसूदी ने पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा को मात दी. कम मतदान वाले मुकाबले में, मसूदी को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी ए मीर से कड़ी चुनौती मिली लेकिन अंत में मसूदी ने मीर को 6676 वोटों के अंतर से हराया. महबूबा का प्रदर्शन बहुत निराशाजनक रहा और उन्हें केवल 30 हजार 500 वोट मिले.

महबूबा ने ट्वीटर पर हार स्वीकार करते हुए कहा, 'मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे अपने लोगों का प्यार और स्नेह मिला. उन्हें मेरी नाकामियों के लिए अपनी नाराजगी जताने का पूरा अधिकार है. मैं उनके फैसले को पूरी नम्रता से स्वीकार करती हूं. नेशनल कांफ्रेंस के विजयी उम्मीदवारों को बधाई. मैं अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं और सहयोगियों की आभारी हूं'. 

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा ने ऐतिहासिक सफलता के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बधाई दी. उन्होंने कहा, ऐतिहासिक जनादेश के लिए नरेंद्र मोदी जी को बधाई. आज निश्चित रूप से भाजपा और इसके सहयोगियों का है. कांग्रेस के लिए एक अमित शाह खोजने का समय. 

जम्मू संभाग की उधमपुर सीट पर केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा उम्मीदवार जितेंद्र सिंह ने फिर से जीत दर्ज की. उन्हें कुल 61.38 प्रतिशत वोट मिले। सिंह को कुल सात लाख 24 हजार 311 वोट मिले. उन्होंने कांग्रेस के विक्रमादित्य सिंह को 3.53 लाख मतों से हराया. यह राज्य में किसी उम्मीदवार की जीत का अब तक का सबसे बड़ा अंतर है. विक्रमादित्य जम्मू कश्मीर के अंतिम राजा कर्ण सिंह के बेटे हैं. उन्होंने 2014 में कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद को हराया था.

जम्मू से भाजपा के उम्मीदवार जुगल किशोर ने कांग्रेस के रामभल्ला पर 2.89 लाख वोटों की बढ़त बना ली है. जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारुक अब्दुल्ला ने श्रीनगर लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की। उन्होंने 70 हजार से अधिक मतों के अंतर से जीत हासिल की. वह चौथी बार लोकसभा के लिए चुने गये हैं.

कांग्रेस इस राज्य में एक भी सीट जीतने में असफल रही। नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी ने भाजपा विरोधी वोट बंटने से रोकने के लिए जम्मू और उधमपुर सीटों पर अपने उम्मीदवार नहीं उतारे थे. लद्दाख लोकसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी जे टी नामग्याल जीत गये. उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार एवं पत्रकार सह नेता सज्जाद हुसैन को दस हजार नौ सौ तीस मतों से हराया.

कश्मीर क्षेत्र की सीट बारामूला पर नेशनल कांफ्रेंस के उम्मीदवार मोहम्मद अकबर लोन 30 हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं. पीपुल्स कांफ्रेंस के राजा एजाज अली और निर्दलीय उम्मीदवार शेख अब्दुल राशिद उनसे पीछे चल रहे हैं. साल 2014 में भाजपा और पीडीपी ने तीन तीन सीटें जीती थीं.