close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव : NCP ने सरकार को दी राज ठाकरे के घर छापा मारने की चुनौती

मनसे नेता ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से इस बार बीजेपी के खिलाफ मतदान करने की अपील की है और उनके इस कदम से कांग्रेस और एनसीपी को लाभ मिलने की संभावना है.

लोकसभा चुनाव : NCP ने सरकार को दी राज ठाकरे के घर छापा मारने की चुनौती
NCP ने सरकार को दी राज ठाकरे के घर छापेमारी की चुनौती. (फाइल फोटो)

मुंबई : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने सरकार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के घर पर छापा मारने की चुनौती दी है. राज ठाकरे अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से सत्तारूढ़ बीजेपी के खिलाफ मतदान करने की अपील कर रहे हैं.

एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक की यह टिप्पणी ऐसे समय में सामने आयी है, जब महाराष्ट्र बीजेपी ने यह जानना चाहा कि ठाकरे की चुनावी रैलियों का खर्च किस लोकसभा उम्मीदवार के खाते में जायेगा. ठाकरे की पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिये अपने किसी उम्मीदवार को खड़ा नहीं किया है.

ठाकरे ने 2014 के चुनाव में बीजेपी का समर्थन किया था. वह पहले ही नांदेड़, सोलापुर और कोल्हापुर में कुछ जनसभाओं को संबोधित कर चुके हैं और सतारा एवं बारामति में भी उनके रैलियां करने की संभावना है, जहां से एनसीपी ने मौजूदा सांसदों क्रमश: उदयनराजे भोसले और सुप्रिया सुले को चुनाव मैदान में उतारा है.

मनसे नेता ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से इस बार बीजेपी के खिलाफ मतदान करने की अपील की है और उनके इस कदम से कांग्रेस और एनसीपी को लाभ मिलने की संभावना है. मलिक ने कहा कि अगर दम है तो सरकार राज ठाकरे के घर पर छापा मारकर दिखाये.

उन्होंने दावा किया, 'ठाकरे ने पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी का समर्थन किया था. लेकिन अब वह मोदी के विरोध में रैलियां कर रहे हैं इसलिए उनकी रैलियों के खर्च की पूरी जानकारी मांगी जा रही है.'

बीजेपी ने शनिवार को राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) को पत्र लिखकर यह जानना चाहा था कि ठाकरे की मौजूदा राजनीतिक रैलियों का खर्च किस लोकसभा उम्मीदवार के खाते में जायेगा.

सीईओ अश्विनी कुमार को संबोधित करते हुए पत्र में बीजेपी के वरिष्ठ मंत्री विनोद तावड़े ने कहा कि मनसे यह लोकसभा चुनाव नहीं लड़ रही है बावजूद इसके ठाकरे समूचे राज्य में चुनावी रैलियां कर रहे हैं.