Zee Rozgar Samachar

पीयूष गोयल बन सकते हैं वित्तमंत्री, रव‍िशंकर प्रसाद को दूरसंचार मंत्रालय मिलने की उम्मीद

पिछले साल अरुण जेटली के बीमार होने पर कुछ समय के लिए गोयल ने वित्तमंत्रालय का कार्यभार संभाला था.

पीयूष गोयल बन सकते हैं वित्तमंत्री, रव‍िशंकर प्रसाद को दूरसंचार मंत्रालय मिलने की उम्मीद
रेलमंत्री पीयूष गोयल अगला वित्तमंत्री हो सकते हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आम चुनाव के परिणाम आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अगुवाई में नई सरकार के गठन का रास्ता साफ हो गया है. ऐसे में नई सरकार में प्रमुख मंत्रालयों के पदभार के लिए नामों पर अटकलें शुरू हो गई हैं. चर्चा है कि रेलमंत्री पीयूष गोयल अगला वित्तमंत्री हो सकते हैं. पिछले साल अरुण जेटली के बीमार होने पर कुछ समय के लिए गोयल ने वित्तमंत्रालय का कार्यभार संभाला था.

उधर, कानून व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद के बारे में चर्चा है कि उनको दूरसंचार मंत्री बनाया जा सकता है. इससे पहले भी वह कुछ समय के लिए दूरसंचार मंत्रालय का पदभार संभाल चुके हैं.

सूत्रों ने बताया कि अगर नई सरकार में अरुण जेटली स्वास्थ्य कारणों से वित्त मंत्रालय का पदभार नहीं संभालेंगे तो मंत्रालय के कामकाज के बारे में अनुभव रखने वाले किसी नाम पर विचार किया जा सकता है.  वित्तमंत्री रहते हुए गोयल ने अंतरिम बजट पेश किया था.

सूत्रों ने बताया कि जेटली की जगह गोयल वित्तमंत्री बनाए जा सकते हैं क्योंकि उन्होंने मंत्रालय का पदभार संभाला है. उन्होंने कहा कि आगे बजट पेश करना है और आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश किया जाना है, इसके अलावा आर्थिक सुस्ती का भी सवाल है, ऐसे में मोदी किसी नए चेहरे को यह कार्यभार नहीं सौंप सकते हैं.  हालांकि मंत्रियों की नियुक्ति के संबंध में इस चर्चा की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. बहरहाल, इस विषय में विचार-विमर्श चल रहा है.

निवर्तमान दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा के गाजीपुर से चुनाव हारने के बाद रविशंकर प्रसाद को दूरसंचार मंत्री बनाया जा सकता है.

रविशंकर प्रसाद बिहार के पटना साहिब संसदीय क्षेत्र से बतौर भाजपा प्रत्याशी चुने गए हैं. उन्होंने पूर्व भाजपा नेता और कांग्रेस उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा को पराजित किया है.

(इनपुट-आईएएनएस)

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.