close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

4 चरणों के चुनाव के बाद विपक्षी 'चारों खाने चित', अब इनकी बड़ी हार की तैयारी : पीएम मोदी

मोदी ने कहा कि एनडीए के सभी नेताओं के प्रयास से बहुत मुश्किल से बिहार ने अपने पुराने दौर को पीछे छोड़ा है. जिन लोगों ने इस महान भूमि की पहचान बदल दी थी. वो केंद्र सरकार बनाने के लिए नहीं लड़ रहे हैं, वह छटपटा रहे हैं कि कैसे कुछ संख्या बढ़ जाए.

4 चरणों के चुनाव के बाद विपक्षी 'चारों खाने चित', अब इनकी बड़ी हार की तैयारी : पीएम मोदी
पीएम मोदी ने मुजफ्फपुर में रैली को संबोधित किया. (फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर : बिहार के मुजफ्फरपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (मंगलवार को) राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की संकल्प रैली को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने 'सबका साथ, सबका विकास' के अपने मंत्र को दोहराते हुए राष्ट्रीय सुरक्ष पर जमकर घेरा. साथ ही भ्रष्टाचार के मुद्दे पर पीएम मोदी ने विरोधियों पर जमकर हमला किया. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, 'चार चरणों के चुनाव के बाद विरोधी चारो खाने चित हो चुके हैं. अब अगले चरणों में तय होना है कि इनकी हार कितनी बड़ी होगी और एनडीए की जीत कितनी भव्य होगी.'

पीएम मोदी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा, 'जब हर बूथ पर एनडीए कार्यकर्ता मजबूती से डटा हुआ हो तो विजय निश्चित देखते हुए हर व्यक्ति इसमें अपना योगदान देने के लिए बेताब हो रहा है. इससे पता चल सकता है कि हवा रुख किधर है. यह लहर नहीं ललकार है, फिर एकबार मोदी सरकार है.' इस रैली को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी संबोधित किया.

मोदी ने कहा कि एनडीए के सभी नेताओं के प्रयास से बहुत मुश्किल से बिहार ने अपने पुराने दौर को पीछे छोड़ा है. जिन लोगों ने इस महान भूमि की पहचान बदल दी थी. वो केंद्र सरकार बनाने के लिए नहीं लड़ रहे हैं, वह छटपटा रहे हैं कि कैसे कुछ संख्या बढ़ जाए. पीएम मोदी ने कहा, 'बिहार को लोगों को सावधान कर रहा हूं. उनकी ताकत बढ़ाने का मतलब है बेटियों का अपहरण, हत्याएं और हर योजना में भ्रष्टाचार. सूरज ढलने के बाद अपने घर में कैद होना.' उन्होंने कहा कि बिहार को इन लोगों ने यही दिया है. ये लोग बिहार को जाति और समाज में बांटकर अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहते हैं.

पीएम ने कहा कि इनका लक्ष्य है किसी भी प्रकार से दिल्ली में एक कमजोर और मजबूर सरकार बने, ताकि मनमानी कर सके. जो जेल में, जेल के दरवाजे पर, बेल पर या बेल के लिए कोर्ट का चक्कर काट रहे हैं, वो एक मिनट भी केंद्र में मजबूत सरकार को बर्दाश्त नहीं करना चाहते हैं. बड़े-बड़े शॉपिल मॉल खड़े किए उसका भी हिसबा देना होगा. जिस तरह से 'मिशेल मामा' को उठाकर लाए हैं, इनके बाकी चाचाओं को भारत आना ही होगा. बीतो पांच वर्षों में इन्हें बेल के लिए मजबूर किया हूं. अब जेल भिजवाने की तैयारी है. इन सारे महामिलावट करने वालों की मंशा को समझना होगा.

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा ये लोग तो इतनी भी सीटों पर नहीं लड़ रहे हैं कि नेता प्रतिपक्ष का पद हासिल कर सके. 2014 में देश की जनता ने कांग्रेस को इतनी सीटें नहीं दी थी कि नेता प्रतिपक्ष बन सके. जिनके नसीब में विपक्ष के नेता का पद नहीं है, वो पीएम बनने का सपना देख रहे हैं. इनके लिए सत्ता से ऊपर कुछ भी नहीं है. इन लोगों को सिर्फ अपनी शान शौकत और सुरक्षा की चिंता रहती है.

राष्ट्रीय सुरक्षा का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि देश में बम धामाके हुआ करते थे. कांग्रेस और उसके साथी कमजोरों की तरह बर्ताव करते थे. आतंकवाद जब फलता है तो कोई सुरक्षित नहीं रहता है. बीते पांच वर्षों में बहुत मेहनत से सुरक्षा एजेंसियों ने इसे रोककर रखा है. उनके (पाकिस्तान) के इरादे ऐसे ही हैं. मौके की तलाश में हैं. हम उनके इस मंसूबे को खत्म करते रहते हैं. 

इस दौरान पीएम मोदी ने सभा में मौजूद भीड़ से पूछा कि आतंकवाद को कौन खत्म कर सकता है? आतकंवाद और नक्सलवाद पर सबसे बड़ा प्रहार करने ताकत किसने दिखाई? लोगों ने जवाह दिया मोदी. पीएम मोदी ने कहा देश के भीतर हो या सीमा के उस पार आतंक को फैलाने वाली फैक्ट्री जहां भी होगी वो चाकीदार के निशाने पर है. भारत को जहां से भी खतरा होगा वहां हम घर में घुसकर मारेंगे. एनडीए की नीति स्पष्ट है. महाविलाट वालों की क्या नीति है. इसपर कुछ नहीं बोलते हैं. उन्हें देश की सुरक्षा की चिंता नहीं हैं. ये आतंकवाद पर कुछ भी नहीं कह सकते हैं. पाकिस्तान का नाम सुनते ही इनके पैर कांपने लगते है.