close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनाव में सिर्फ गरीबी और बेरोजगारी ही नहीं राम और राष्ट्रवाद भी महत्वपूर्ण मुद्दे हैं: रामदेव

अपने आपको किसी भी पार्टी विशेष से संबद्ध न बताते हुए रामदेव ने कहा कि देश वर्तमान में सभी प्रकार की राजनीतिक, आर्थिक और धार्मिक चुनौतियों का सामना कर रहा है .

चुनाव में सिर्फ गरीबी और बेरोजगारी ही नहीं राम और राष्ट्रवाद भी महत्वपूर्ण मुद्दे हैं: रामदेव
योगगुरु बाबा रामदेव (फाइल फोटो)

देहरादून: साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का बचाव करते हुए योग गुरु रामदेव ने कहा है कि केवल संदेह के आधार पर सलाखों के पीछे डालकर उनके साथ क्रूरता किया जाना उचित नहीं था . बाबा रामदेव ने यह भी कहा कि सिर्फ गरीबी और बेरोजगारी नहीं राम और रामराज्य भी अहम मुद्दे हैं.

रामदेव ने सोमवार को कहा, 'साध्वी प्रज्ञा को नौ साल तक सश्रम कारावास झेलने को मजबूर होना पड़ा . अगर वह कोई अनुचित बयान देती हैं तो उन्हें टोकने में कोई बुराई नहीं है . लेकिन केवल संदेह के आधार पर जेल में उनके साथ अमानवीय बर्ताव ठीक नहीं था .'

रामदेव साध्वी प्रज्ञा के तत्कालीन एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे पर दिए गए बयान की आलोचना के संबंध में पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे . मुंबई के 26/11 आतंकी हमले के बाद आतंकवाद विरोधी कार्रवाई के दौरान करकरे की मृत्यु हो गई थी .

अपने आपको किसी भी पार्टी विशेष से संबद्ध न बताते हुए रामदेव ने कहा कि देश वर्तमान में सभी प्रकार की राजनीतिक, आर्थिक और धार्मिक चुनौतियों का सामना कर रहा है .

'राम और राष्ट्रवाद भी महत्वपूर्ण मुद्दे हैं'
उन्होंने कहा, ' इन चुनौतियों से निपटने के बाद देश 2040 तक विश्व का अगुआ बन जाएगा .'  योग गुरू ने यह भी कहा कि यह बात गलत है कि केवल गरीबी और बेरोजगारी ही मुद्दा है . उन्होंने कहा, ' राम और राष्ट्रवाद भी उतने ही महत्वपूर्ण (मुद्दे) हैं .'