close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंदौर में बोले शिवराज सिंह- 'कांग्रेस वचन पूरे होने के सबूत दे देगी तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा'

 पूर्व मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा है कि 'अगर कांग्रेस वचन पूरे होने के सबूत दे देती है तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा. जिसके बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेंद्र पचौरी का भी बयान सामने आया है.'

इंदौर में बोले शिवराज सिंह- 'कांग्रेस वचन पूरे होने के सबूत दे देगी तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा'
शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः कर्जमाफी पर मचे बवाल और कांगेस के वचन पत्र पर लगातार खड़े हो रहे सवालों के बीच इंदौर में शिवराज सिंह चौहान ने एक बड़ा बयान दिया है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा है कि अगर कांग्रेस वचन पूरे होने के सबूत दे देती है तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा. जिसके बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेंद्र पचौरी का भी बयान सामने आया है. पूर्व मुख्यमंत्री के बयान पर निशाना साधते हुए पचौरी ने कहा कि 'प्रदेश की जनता ने तो उन्हें वैसे ही सत्ता से बाहर बैठा दिया है. 23 मई के बाद मोदी को भी जनता बाहर बैठा देगी.'

इसके साथ ही पचौरी ने कहा कि 'मैं विनम्रता पूर्वक शिवराज जी को उनके दावे याद दिलवाना चाहता हूं. बीजेपी का दावा था कि किसानों का कर्ज माफ करेगी, किसानों को बिजली सस्ती देगी, लेकिन उनके कार्यकाल में बिजली के बिल का भुगतान न होने पर किसानों को जेल भेज दिया गया. शिवराज जी के कार्यकाल में बेरोजगारी बढ़ी. महिलाओं पर अत्याचार हुआ. किसानों पर गोलियां चलाई गईं. शिवराज जी ने जो वादे किए थे वो पूरे नहीं किए. यही कारण है कि प्रदेश की जनता ने उन्हें वनवास पर भेज दिया.'

BJP कार्यकर्ताओं ने शिवराज सिंह को भेंट की PM मोदी की खून से बनी फोटो, लिखवाया- 'नमो अगेन' 

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए सुरेश पचौरी ने कहा कि ''प्रधानमंत्री मोदी ने जो वादे किए वो बेकार निकले. इन पांच सालों में पीएम मोदी ने भी अपना कोई भी वादा पूरा नही किया. इसलिए अब जनता उन्हें इसका जवाब देगी.' बता दें कुछ दिनों पहले ही सुरेश पचौरी अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आवास पहुंचे थे और उन्हें 21 लाख किसानों की सूचियां सौंपी. यह सूची जिला वार तैयार की गई थीं. इसमें पूर्व सीएम के भाई का भी नाम था.

नरेंद्र तोमर बोले, 'TMC की चुनावी हार नजदीक देख पूरी तरह बौखला गई हैं ममता बनर्जी'

बता दें इससे पहले किसान कर्जमाफी पर सफाई देते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने लोकसभा चुनाव और आचार संहिता का हवाला दिया था और कहा था कि 'प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के 65 दिनों के भीतर ही लोकसभा चुनाव की घोषणा हो गई और आचार संहिता लागू हो गई. जिससे कई किसानों का कर्ज माफ नहीं हो पाया, लेकिन आचार संहिता के हटते ही उनका कर्ज माफ कर दिया जाएगा.'